तमिलनाडु में फिर राजनीतिक सरगर्मी बढ़ी, इस बार एक हो सकते हैं ‘दोनों’ गुट

0
114

चेन्नई : तमिलनाडु में राजनीतिक उठापटक का दौर जारी है. जे. जयललिता के निधन के बाद उनकी पार्टी में बने दो गुटों के बीच की दूरियां अब कम होने लगी है. बताया जा रहा है कि दोनों गुटों में एक-दो दिन के अंदर सुलह पर मुहर लग सकती है. विधायकों को लेकर इस संबंध में एक बैठक भी होने वाली है. जयललिता के निधन के बाद सत्ता को लेकर शशिकला से उनका विवाद गहरा गया था.

पूर्व मुख्यमंत्री पनीरसेल्वम और वर्तमान सत्ताधारी धड़े के बीच समझौता

बताया जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री पनीरसेल्वम और वर्तमान सत्ताधारी धड़े के बीच समझौते का मसौदा तैयार हो चुका है. हालांकि, कुछ विरोध अभी भी बाकी है. मुख्यमंत्री पलानीस्वामी के गुट में विरोधी गुट का विलय होने की संभावना जता दी गई है.

तमिलनाडु सरकार के कई वरिष्ठ मंत्रियों ने सोमवार को देर रात बैठक की

अन्नाद्रमुक के विरोधी धड़ों के विलय को लेकर बातचीत के बीच तमिलनाडु सरकार के कई वरिष्ठ मंत्रियों ने सोमवार को देर रात बैठक की. बाद में इन मंत्रियों ने विरोधी गुट के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम के विलय संबंधी प्रस्ताव का स्वागत किया. साथ ही इस प्रस्ताव पर आगे बढ़ने का फैसला किया.

बैठक बिजली मंत्री के. थंगामणि के आधिकारिक आवास पर हुई

यह बैठक बिजली मंत्री के. थंगामणि के आधिकारिक आवास पर हुई. बैठक से बाहर आते हुए वित्त मंत्री डी जयकुमार ने कहा कि दीनाकरन और पनीरसेल्वम के नेतृत्व वाले धड़ों के विलय का रास्ता का साफ करने करने के तौर-तरीकों को लेकर काम चल रहा है.

विजय भास्कर भी शामिल हुए जो आयकर विभाग की जांच के घेरे में हैं

पार्टी सूत्रों ने कहा कि बैठक में स्वास्थ्य मंत्री यी विजय भास्कर भी शामिल हुए जो आयकर विभाग की जांच के घेरे में हैं. मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी इस बैठक में शामिल नहीं हुए. विजय भास्कर का इस बैठक में शामिल होना महत्वपूर्ण है. माना जा रहा है कि इसकी अटकल थी कि कुछ वरिष्ठ मंत्रियों ने उनके इस्तीफे की मांग की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here