मेरा खुद पर उतना भरोसा नहीं है, जितना देश के आशीर्वाद पर है: मोदी

0
486

     हरिद्वार में रामदेव ने मोदी को बताया महामानव

हरिद्वार (SPK News Desk) .केदारनाथ दौरे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हरिद्वार में पतं‌जलि योगपीठ में रिसर्च सेंटर का उद्घाटन किया इस मौके पर बाबा रामदेव ने मोदी को राष्ट्र ऋषि के तौर पर सम्मान किया। बाद में मोदी ने कहा कि बाबा ने मुझे यह सम्मान देकर सरप्राइज दिया। सम्मान के साथ-साथ आपके और सवा सौ करोड़ भारतीयों के आशीर्वाद पर मुझे भरोसा है। मेरा मानना है कि मेरा खुद पर उतना भरोसा नहीं है, जितना आप और देश के आशीर्वाद की ताकत पर है। इससे पहले उत्तराखंड दौरे पर मोदी ने सुबह बाबा केदारनाथ के दर्शन किए। कपाट खुलने के बाद दर्शन करने मोदी सबसे पहले पहुंचे। उन्होंने गर्भगृह में रुद्राभिषेक भी किया। मोदी की स्पीच की अहम बातें…
1. सम्मान का मतलब, आपसे अपेक्षाएं हैं
– मोदी ने कहा, “मेरा सौभाग्य था कि केदारनाथ जाकर बाबा के दर्शन किए। वहां से आप सबके बीच आने का और आशीर्वाद पाने का सौभाग्य मिला। मुझे विशेष सम्मान से स्वामी रामदेव ने अलंकृत किया। मैं उनका और पतंजलि परिवार का आभार प्रकट करता हूं। जिन लोगों के बीच मेरा लालन-पालन हुआ, जिन्होंने मुझे संस्कार दिए, शिक्षा दी, उससे मैं ये समझता हूं कि जब आपको सम्मान मिलता है तो उसका मतलब होता है कि आपसे अपेक्षाएं हैं, इसको पूरा करो।”
2. मेरा खुद पर उतना भरोसा नहीं है, जितना आप और देश के आशीर्वाद की ताकत पर है
मोदी बोले- “सम्मान के साथ-साथ आपके और सवा सौ करोड़ भारतीयों के आशीर्वाद पर मुझे भरोसा है। मेरा खुद पर उतना भरोसा नहीं है, जितना आप और देश के आशीर्वाद की ताकत पर है। वो आशीर्वाद ऊर्जा का स्रोत है। राष्ट्र के लिए समर्पित जीवन जीने के लिए रोज नई प्रेरणा मिलती रहती है।”
– “मैं आज जब आया हूं तो आप ये अनुभव करते होंगे कि आपके परिवार का ही सदस्य बीच में आया है। मैं यहां पहली बार नहीं आया हूं। आपके बीच बार-बार आने का सौभाग्य मिला। परिवार के सदस्य के नाते आने का मौका मिला है। ये भी मेरा सौभाग्य रहा है कि स्वामी रामदेव जी को बहुत निकट से देखने का अवसर मिला।”
3. दुनिया ने हमारे श्रेष्ठ को खत्म करने की कोशिश की
– “स्वामी जी ने खुद जड़ी-बूटी खोजी है। बालकृष्ण जी की जड़ी-बूटी शरीर को स्वस्थ रखती है। स्वामी रामदेव की बूटी संकट को पार कर नैया आगे बढ़ाने की ताकत देने वाली बूटी है। आज रिसर्च सेंटर के उद्घाटन का मौका मिला। हम अगर पीछे देखें तो हमने वो ऊंचाई पा ली थी कि दुनिया के लिए वहां तक पहुंचना संभव नहीं लगा। उन्होंने हमारे श्रेष्ठ को नष्ट करने का मार्ग अपनाया।”
– “गुलामी के कालखंड में हमारी पूरी शक्ति, ऋषि, मुनि, किसान, वैज्ञानिक खत्म हो गए। आजादी के बाद जो बचा था, उसे पनपाते, नए रंग-रूप के साथ सज्जा करते। आज आजाद भारत की सांस के बीच विश्व के सामने रखते, लेकिन वो नहीं हुआ।”
– “दुश्मनों ने नष्ट करने की कोशिश की, उससे तो हम लड़ पाए, बचा पाए। अपनों ने जब भुलाने का प्रयास किया, तो हमारी तीन-तीन पीढ़ियां दुविधा में जिंदगी गुजारती रहीं। मैं गर्व के साथ कहता हूं कि अब भुलाने का वक्त नहीं है, श्रेष्ठ है, जो उस पर गौरव करें। यही वक्त है कि विश्व में भारत की आन-बान-शान का परिचय कराएं।”
4. बाबा रामदेव ने योग को आंदोलन बना दिया
– “हजारों वर्ष पूर्व हमारे पूर्वजों ने नई खोजों में अपनी जिंदगी खपाई। मानव कल्याण के लिए चीजों की खोज करना और वक्त के साथ उसे ढालते रहने का काम किया। जब से उदासीनता घर गई, हम दुनिया के सामने प्रभाव पैदा करने में असमर्थ होने लगे।”
– “जब आई टी रेवोल्यूशन आया, तो फिर दुनिया का ध्यान हमारी ओर गया। रिसर्च और इनोवेशन की ताकत हमने अपनी आंखों के आगे देखी। आज पूरा विश्व होलिस्टिक हेल्थ केयर के विषय में बड़ा संवेदनशील है और सजग भी। लेकिन उसे रास्ता नहीं मिल रहा है।”
– “भारत के ऋषि-मुनियों की परंपरा योग पर विश्व का आकर्षण पैदा हुआ। वो शांति की तलाश में हैं, बाहर की दुनिया से तंग आकर भीतर की दुनिया की तलाश कर रहे हैं। तन और मन, आत्मा की चेतना के लिए ये योग शास्त्र कितना सहज उपलब्ध हो सकता है।”
– “बाबा रामदेव ने योग को आंदोलन बना दिया। रामदेव ने बताया कि किचन, मैदान, बगीचे और मंदिर के परिसर में भी योग कर सकते हो, हिमालय जाने की जरूरत नहीं। आज ये परिणाम है कि 21 जून को दुनिया के हर देश में योग का उत्सव बनाया जाता है।”
5. लोगों को अब वेलनेस अब चाहिए
– मोदी ने कहा- “बाबा रामदेव हिंदुस्तान की सेवा कर रहे हैं। हजारों साल जो ऋषि-मुनियों ने कमाया-पाया, उसे ये दुनिया को बांटने के लिए निकले हैं। मैं उनका अभिनंदन करता हूं। अटल जी की सरकार में हमारे देश मेें हेल्थ पॉलिसी आई। इतने सालों बाद हमारी सरकार बनी तो हम हेल्थ पॉलिसी लेकर आए हैं, होलिस्टिक हेल्थ केयर लेकर आए हैं। दुनिया बीमारी न हो तक सीमित नहीं होना चाहती, लोगों को अब वेलनेस चाहिए।”
– “सॉल्यूशन भी होलिस्टिक देने होंगे, प्रिवेंटिव हेल्थ केयर का सस्ता और उत्तम रास्ता स्वच्छता है। सवा सौ करोड़ देशवासी तय करें कि मैं गंदगी नहीं करूंगा।”
6. छोटे-छोटे बालक मेरे स्वच्छता आंदोलन के सिपाही बन गए
– “एक डॉक्टर जितनी जिंदगी बचाता है, उससे ज्यादा बच्चों की जिंदगी आप गंदगी ना करके बचा सकते हैं। आप गरीब को दान देकर पुण्य कमाते हो, उससे ज्यादा आप स्वच्छता रखकर कमा सकते हो। मुझे खुशी है कि देश की जो नई पीढ़ी है, हर घर में वो झगड़ा करते हैं सफाई के लिए।”
– “बड़ों ने कार से बोतल फेंक दी, तो छोटा बेटा 5 साल का कार रुकवाता है और कहता है कि मोदी दादा ने कहा है सफाई के लिए कहा है, बोतल वापस लाओ। छोटे-छोटे बालक मेरे स्वच्छता आंदोलन के सिपाही बन गए हैं। देशवासी गंदगी न करने का फैसला कर लें, हमें कोई सफलता पाने से रोक नहीं सकता।”
रामदेव ने कहा- मोदी एक राष्ट्र ऋषि और वरदान के तौर पर देश को मिले हैं
– रामदेव ने कहा, ”मोदी एक राष्ट्र ऋषि और वरदान के तौर पर देश को मिले हैं। सर्जिकल स्ट्राइक जैसे फैसले लेकर पीएम ने देश का गौरव बढ़ाया। मोदी में गरीब-दलित और पिछड़े खुद को देखते हैं।”
– ”मैं भारत माता का बेटा हूं। जब तक मोदीजी हैं, मैं जिंदा रहूंगा। कोई भी देश को नुकसान नहीं पहुंचा सकता है। पीएम ने देश को फिर से विश्व गुरु का दर्जा दिलाया है।”
– पतंजलि योगपीठ के इस रिसर्च सेंटर की लागत 200 करोड़ रुपए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here