मुख्यमंत्री नीतीश के मंत्री किराए पर देते हैं अपने सरकारी बंगले!

0
708

बिहार के मंत्री बंगले किराए पर देकर उससे भी कमाई कर रहे हैं। मंत्री और नेता राज्य सरकार की ओर से मिले इन  विशेषाधिकार और भत्तों का आनंद खुद तो लेते ही हैं साथ ही खाली पड़े बंगले किराए पर भी देते हैं। एक चैनल के किए जांच के बाद यह खुलासा हुआ है कि राज्य में नीतीश कुमार की अगुवाई वाली सरकार में कुछ मंत्रियों ने अपने निजी बंगलों को किराए पर भी देते हैं जिसमें शादी ब्याह जैसे कार्यक्रम आयोजित होते हैं, या यूं कहें कि बैंक्वट हॉल के रूप में इनका प्रयोग किया जाता है। इन बंगलों का एक दिन का किराया सुनकर आप दंग रह जाएंगे। इनका एक दिन का किराया है 2.5 लाख रुपये या इससे भी अधिक। राजद के  अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री अब्दुल गफूर के विशाल बंगले की बात करे तो इसके इवेंट मैनेजर ने बताया कि इस बंगले में हर तरह की सुविधा मौजूद है। काफी जगह है और इसमें निजी समारोह के लिए टेंट भी लगाने की पूरी जगह है। वहीं, बिहार के कला और संस्कृति मंत्री शिवचंद्र राम के आधिकारिक बंगले में भी एेसे ही सुख सुविधाएं मौजूद हैं जो आरजेडी विधायक के बंगले में मौजूद हैं। घर के बाहर तैनात सुरक्षा गार्ड ने बताया कि बंगला चाहिए तो ब्रोकर और बिचौलियों से बातचीत की जा सकती है। यहां शादी समारोह आयोजित करने के लिए किराया लिया जाता है। उसने बताया कि यहां शादी के लिए दुल्हन और दूल्हे के लिए एसी कमरे और प्रीमियम सुविधाएं भी मौजूद हैं। आप चाहें तो आप बुक कर सकते हैं। इस बारे में जब मंत्रियों से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह आधरहीन बातें हैं और इस बारे में कुछ नहीं कह सकते। मंत्री ने आरोपों को ‘आधारहीन’ कहकर खारिज कर दिया। शिवचंद्र राम ने कहा कि “हम राजनीतिक लोग हैं और अगर जगह रहते हुए अपने लोगों को मदद करने के लिए शादी ब्याह के लिए जगह दें तो यह गलत कहां है। शिवचंद्र राम ने कहा कि किसी ने किराया लेकर बंगला देने की बात कही है तो यह गलत है। उन्होंने कहा कि “मेरे घर के पीछे एक खाली मैदान है। जब लोगों को विवाह के लिए इसकी आवश्यकता होती है, तो मैं उन्हें इसका उपयोग करने देता हूं। मैं किसी से पैसे नहीं लेता हूं, “उन्होंने कहा। “भाजपा नेता सुशील मोदी से पूछना चाहिए कि भाजपा नेताओं ने अपनी सरकारी संपत्तियों को कैसे किराए पर दिया है।” भाजपा नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने सवाल किया है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी सबकुछ पता है और वो भी एेसी शादियों मे जाते रहते हैं। क्या सरकारी बंगलों को किराए पर दिया जाता है। इस बारे में उनकी सरकार क्या कर रही है, क्योंकि भवन निर्माण विभाग राजद देखता है और क्या नीतीश कुमार इस बारे में क्या कर रहे हैं उन्हें यह जवाब देना चाहिए। उन्हें पता लगाना चाहिए।  दूसरों की बात तो छोड़ दें यहां तक कि जेडीयू (यू) विधायक नरेंद्र सिंह के बंगले का इस्तेमाल भी व्यापारिक उद्देश्य के लिए किया जा रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.