जस्टिस करनन ने CJI समेत आठ जजों को सुनाई पांच साल सश्रम कारावास की सजा

0
784
SPK News Desk: कलकत्ता हाईकोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस सीएस करनन और सुप्रीम कोर्ट के बीच तल्खी इस हद तक बढ़ गई कि अवमानना के आरोप से शुरू यह मामला अब जजों को ही सश्रम कैद की सजा सुनाने तक पहुंच गया है। अवमानना के आरोप झेल रहे जस्टिस करनन ने सोमवार को मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) न्यायमूर्ति जेएस खेहर समेत सुप्रीम कोर्ट के आठ जजों को ही पांच साल सश्रम कारावास की सजा सुना दी।
सुप्रीम कोर्ट के साथ बढ़ती तल्खी के बीच जस्टिस करनन ने इन आठ जजों को सजा सुनाते हुए कहा कि इन्होंने 1989 के अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार कानून और 2015 के तहत संशोधित अधिनियम के तहत संयुक्त रूप से दंडनीय अपराध किया है।

उन्होंने शीर्ष अदालत की सात सदस्यीय पीठ के जजों के नाम भी बताए। ये सीजेआई के अलावा, जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस जे. चेलेश्वरम, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन बी. लोकुर, जस्टिस पिनाकी चंद्रा घोष और जस्टिस कुरियन जोसफ हैं। पीठ ने जस्टिस करनन के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए अवमानना की कार्रवाई की थी और उनके न्यायिक तथा प्रशासनिक कार्य करने पर रोक लगा दी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.