लालू प्रसाद के ठिकानों पर जांच एजेंसियों की छापेमारी से राजनीति गरमाई

0
569

जेडीयू ने कहा राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की एकजुटता के डर से सरकार करा रही छापेमारी

राष्ट्रपति चुनाव से पहले पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम, उनके बेटे और लालू प्रसाद यादव की बेटी-दामाद के ठिकानों पर जांच एजेंसियों की छापेमारी से राजनीति गरमा गई है. विपक्ष का कहना है कि राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी दलों को एकजुट होता देख केंद्र सरकार डर गई है, जिसके चलते छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है. लालू के घर पर सीबीआई छापेमारी पर आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद ने कहा कि हम इस बात को जानते हैं कि विपक्ष की एकजुटता से बीजेपी घबरा गई है. लिहाजा वह बदले की कार्रवाई कर रही है. हम इसको बेनकाब करेंगे. हमें किसी भी जांच से नहीं डरेंगे. एक सवाल के जवाब में रघुवंश प्रसाद ने कहा कि यह कार्रवाई बीजेपी की साजिश है, मुझे कोई आश्चर्य नही है. इसके अलावा लालू यादव और चिदंबरम के खिलाफ छापेमारी पर जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. साथ ही राष्ट्रपति चुनाव से पहले सीबीआई की ओर से की गई छापेमारी पर सवाल दागा. त्यागी ने कहा कि जब विपक्ष संयुक्त रूप से राष्ट्रपति चुनाव में प्रत्याशी उतारने की चर्चा कर रहा है, तब सीबीआई की छापेमारी सामने आई है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार विपक्ष को बदनाम करने की कोशिश कर रही है.
त्यागी ने कहा कि केंद्र की बीजेपी सरकार विपक्ष की एकजुटता से डर रही है. इसी के चलते दुर्भावना से छापेमारी की जा रही हैं. लालू के खिलाफ सीबीआई की छापेमारी पर त्यागी ने कहा कि हम मामले में सरकार के बयान का इंतजार कर रहे हैं. सीबीआई निष्पक्ष जांच एजेंसी नहीं है. जेडीयू नेता पवन वर्मा ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भ्रष्टाचार के मसले पर जीरो टोलरेंस की नीति अपनाई है. कानून को अपना काम करने देना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि आरजेडी-जेडीयू गठबंधन ठीक ढंग से चल रहा है.
नीतीश यह ना कहें कि बदले की भावना से हुई छापेमारी: सुशील मोदी
बीजेपी नेता सुशील मोदी ने कहा कि मैंने प्रेस कांफ्रेंस करके इस मामले को सार्वजनिक किया था, मैंने कोई दस्तावेज नहीं सौंपे थे. इसमें प्रेमचंद गुप्ता, लालू समेत आधे दर्जन नेताओं का नाम मैंने लिया था. मैंने अपील की थी, जिसके बाद यह छापेमारी की थी. सुशील मोदी ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि नीतीश कुमार ये नहीं कहेंगे कि ये छापेमारी बदले की भावना से की गई है. सुशील मोदी ने कहा कि मुझे नहीं पता है कि इनकम टैक्स किस आधार पर यह छापेमारी कर रही है.
लालू के बेटे से मिलने पहुंचे पूर्व मंत्री कांति सिंह
इनकम टैक्स की छापेमारी के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री कांति सिंह और रघुनाथ झा आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे से मिलने पहुंचे. दोनों ने लालू यादव को जमीन और मकान गिफ्ट में दिया था. दरअसल, मंगलवार सुबह इनकम टैक्स ने लालू प्रसाद यादव की बेटी और दमाद के दिल्ली और गुरुग्राम स्थित 22 ठिकानों पर छापेमारी की है. ये छापे लालू की एक हजार करोड़ की बेनामी संपत्ति के मामले में मारे गए हैं. इनकम टैक्स ने सुबह 8.30 बजे से ही छापेमारी शुरू कर दी. कटियार फैमिली, कोचर फैमिली और सांसद प्रेमचंद गुप्ता के बेटों के यहां भी इनकम टैक्स की छापेमारी की गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here