GST से महंगी होंगी छोटी कारें, SUV खरीदना पहले से सस्ता

0
176

यदि आप छोटी कार खरीदने की योजना बना रहे हैं तो इस डील को जीएसटी लागू होने से पहले ही पूरी कर लें। जीएसटी लागू होने के बाद आपको इस पर कुछ अधिक राशि चुकानी पड़ सकती है। नई अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था में छोटी कारों पर अतिरिक्त सेस लगेगा। हालांकि बड़ी सिडान, स्पोर्ट्स यूटिलिटी वीकल्स और लग्जरी कार खरीदने वाले लोगों को राहत मिल सकती है। इसकी वजह यह है कि जीएसटी काउंसिल ने इन पर 15 पर्सेंट सेस लगाने का फैसला लिया है, लेकिन इन पर कुल टैक्स पहले की तुलना में कम हो जाएगा। फिलहाल इन कारों पर तमाम तरह के अलग-अलग टैक्स लगते थे, लेकिन अब इन पर 28 पर्सेंट का एकमुश्त टैक्स लगेगा। इसके अलावा छोटी पेट्रोल गाड़ियों पर 1 पर्सेंट और डीजल कारों पर तीन पर्सेंट का सेस लगेगा। वहीं, बड़ी और लग्जरी कारों पर 28 पर्सेंट टैक्स के अलावा 15 पर्सेंट सेस भी चार्ज किया जा सकता है। ऑटो इंडस्ट्री के जानकारों का कहना है कि एंट्री सेगमेंट में सेस लगाने से देश को छोटी कारों के मैन्युफैक्चरिंग बेस के तौर पर विकसित करने की संभावनाओं पर विपरीत असर होगा।
मौजूदा टैक्स स्ट्रक्चर में छोटी कारों पर 12.5 पर्सेंट की एक्साइज ड्यूटी लगती है। इसके अलावा 12.5 से लेकर 14.5 फीसदी तक का वैट लगता है। लेकिन, अब नई प्रस्तावित व्यवस्था के तहत इन पर 28 पर्सेंट का एकमुश्त टैक्स लगेगा और फिर से 1 से 3 पर्सेंट तक सेस वसूलने पर यह आंकड़ा 29 से 31 फीसदी तक पहुंच जाएगा। ह्यूंदै मोटर इंडिया के डायरेक्टर राकेश श्रीवास्तव ने कहा, ‘प्रस्तावित जीएसटी स्ट्रक्चर के तहत छोटी कारों के टैक्स में इजाफा हो जाएगा। एंट्री सेगमेंट में कीमतें बेहद महत्व रखती हैं और इसमें इजाफा भारत के कार मैन्युफैक्चरिंग सेंटर बनने की राह में चुनौती हो सकता है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here