केरल के CM ने कहा- हम क्‍या खाएं ये दिल्‍ली-नागपुर को बताने की जरूरत नहीं

0
503

पर्यावरण मंत्रालय द्वारा देशभर में मांस कारोबार के लिए मवेशियों (कैटल) की हत्या और इस मकसद से उनकी बिक्री पर रोक लगाने के बाद केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन ने जमकर गुस्सा निकाला.

उन्होंने कहा, ‘हम क्‍या खाएं क्या नहीं ये दिल्ली या नागपुर से जानने की जरूरत नहीं है. राज्य सरकार अपने राज्य की जनता को उनकी पसंद का हर खाना और सुविधाएं देगी.’ उन्होंने कहा, ‘केरल के लोगों को नई दिल्ली और नागपुर में बैठे लोगों से कुछ सीखने की जरूरत नहीं है.’ बताते चलें कि नागपुर से उनका इशारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से है, जिसका मुख्यालय नागपुर में ही है.

केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन ने रविवार को प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर केंद्र के निर्णय का विरोध किया था. उन्होंने केंद्र सरकार और आरएसएस पर हमला करते हुए कहा, राज्य के लोगों को नई दिल्ली या नागपुर से खान-पान की आदतों को लेकर सबक सीखने की जरूरत नहीं है.

स्थानीय प्रशासन मंत्री केटी जलील ने कहा, केंद्र के पशु वध से निजात पाने के लिए सरकार नया कानून लाने पर विचार कर सकती है. इस बीच विपक्षी कांग्रेस नीत यूडीएफ ने प्रतिबंध के खिलाफ सोमवार को केरल में ‘काला दिवस’ मनाने का फैसला किया है.

इस बीच पुलिस ने युवक कांग्रेस के कार्यकर्ता रिजिल मुकुलटी और उसके सहयोगियों के खिलाफ शनिवार को कन्नूर में खुलेआम जानवर काटने को लेकर मामला दर्ज किया. केंद्र के प्रतिबंध के खिलाफ कांग्रेस और वामपंथी दलों द्वारा आयोजित पूरे राज्य में ‘बीफ फेस्‍ट’ के दौरान इस कृत्य को अंजाम दिया गया था.

राहुल गांधी ने निंदा की
कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने केरल में सार्वजनिक तौर पर यूथ कांग्रेस सदस्यों द्वारा कथित रूप से जानवर की हत्या की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘केरल में जो हुआ वह विचारहीन और नृशंस है और मुझे और कांग्रेस पार्टी दोनों के लिए पूर्णत: अस्वीकार्य है. मैं इस घटना की कड़ी निंदा करता हूं.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here