कोहली और कुंबले में मनमुटाव? सचिन, गांगुली और लक्ष्मण कराएंगे समझौता

0
388

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है? टीम इंडिया से जुड़े सूत्र तो कुछ ऐसा ही बता रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि कप्तान विराट कोहली और कई सीनियर प्लेयर कुंबले के टीम को गाइड करने के तरीके से खुश नहीं हैं। यह खबर ऐसे वक्त में आई है, जब टीम इंडिया चैंपियंस ट्रोफी में पाकिस्तान के खिलाफ अहम मुकाबले की तैयारियों में जुटी है। भारतीय टीम पाकिस्तान के खिलाफ 4 जून को टूर्नमेंट का अपना ओपनिंग मैच खेलेगी। हालांकि इस बीच कुंबले और कोहली के बीच सब कुछ सही कराने की कोशिशें शुरू हो चुकी हैं। सूत्रों के मुताबिक अडवाइडरी पैनल के मेंबर और पूर्व दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर, सौरभ गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण दोनों के बीच समझौता करा सकते हैं। अडवाइजरी कमिटी को ही टीम इंडिया के अगले कोच की नियुक्ति की जिम्मेदारी भी सौंपी गई है। माना जा रहा है कि अनिल कुंबले एक बार फिर से कोच बनने की रेस में सबसे आगे चल रहे हैं। उन्हें 2019 के विश्व कप तक के लिए कार्यकाल दिया जा सकता है। बीते एक साल में उनकी कोचिंग के दौरान टीम इंडिया ने खेल के हर विभाग में बेहतर प्रदर्शन किया है। लेकिन, सवाल है कि आखिर इस बीच गलत क्या हो गया? माना जा रहा है कि अनिल कुंबले ‘हार्ड टास्क’ के साथ काम करना पसंद करते हैं, जिसे सीनियर प्लेयर कम पसंद कर रहे हैं। हालांकि यह बहुत बड़ा संकट नहीं है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि अधिकतर खिलाड़ी रवि शास्त्री के प्लेइंग स्टाइल को ज्यादा पसंद करते हैं।
माना जा रहा है कि इस मामले से निपटने के लिए सुप्रीम कोर्ट की ओर से गठित कमिटी ऑफ अडमिनिस्ट्रेटर्स के चेयरमैन विनोद राय तीन सदस्यीय पैनल से चर्चा के लिए मिल सकते हैं। सूत्रों का कहना है कि न्यू जीलैंड के खिलाफ प्रैक्टिस मैच के बाद कोहली और गांगुली के बीच इस बारे में बात हुई थी। अब इस बारे में विस्तार से बात हो सकती है। कहा जा रहा है कि बीसीसीआई में एक धड़ा अनिल कुंबले को कोच के तौर पर विस्तार देने के मूड में है। लेकिन, बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि कप्तान विराट कोहली अनिल कुंबले के साथ लॉन्ग टर्म के लिए काम करने के इच्छुक नहीं हैं।
तीन सदस्यीय पैनल करेगा कोच का फैसला
कुंबले का कॉन्टैक्ट चैंपियंस ट्रोफी के बाद समाप्त हो रहा है। दूसरी तरफ बोर्ड भी कुंबले को सीधे एक्सटेंशन देने की बजाय कोच के चयन की प्रक्रिया शुरू करने की तैयारी में है। निसंदेह कुंबले भी सीधे तौर पर इस प्रक्रिया का हिस्सा होंगे। पूरे मामले की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने कहा, ‘अनुशासन समिति ने टीम के प्रतिदिन के कार्यों से जुड़ी नहीं होती। नए कोच के चुनाव का अधिकार तीन सदस्यीय पैनल को सौंपा गया है। अनुशासन समिति या फिर बोर्ड के अधिकारी इस प्रक्रिया का हिस्सा नहीं होंगे।’
बोर्ड चाहता है राहुल द्रविड़ बनें टीम इंडिया के कोच
पिछले दिनों कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि बीसीसीआई के कुछ अधिकारियों ने वीरेंद्र सहवाग से कोच पद के लिए आवेदन करने को कहा है। हालांकि वीरेंद्र सहवाग ने संपर्क किए जाने पर ऐसे प्रस्ताव से इनकार किया और कोच बनने में भी रुचि नहीं दिखाई। इसके बाद रवि शास्त्री पर फोकस गया, लेकिन उन्होंने भी इसमें कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। सूत्रों का कहना है कि ऐसी स्थिति में ऑस्ट्रेलिया के टॉम मूडी एक बार फिर से संभावित दावेदार हो सकते हैं। हालांकि बीसीसीआई में एक धड़ा चाहता है कि राहुल द्रविड़ इस पद के लिए आवेदन करें। इस बीच अनुशासन समिति ने अडवाइजरी पैनल से कोच और खिलाड़ियों के बीच मतभेद खत्म कराने को कहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here