इंटर रिजल्ट के बाद दो छात्राओं ने की आत्महत्या, एक छात्रा के हौसले को सलाम

0
471

इंटर की परीक्षा के रिजल्ट ने दो छात्राओं की जान ले ली तो वहीं एक छात्रा ने अपनी हौसला अफजाई का परिचय देते हुए अपनी परेशानी को अपनी कमजोरी नहीं बनने दिया। सबसे दर्दनाक घटना बक्सर की है जहां एक छात्रा को उसकी दोस्त ने गलत जानकारी दे दी जिससे वह चलती ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली। मिली जानकारी के मुताबिक बक्सर जिले के रघुनाथपुर स्टेशन के पास इंटरमीडियट की छात्रा किरण कुमारी जो 17 वर्ष की थी, ने बीती रात ट्रेन के सामने कूद कर जान दे दी पुलिस ने उसके शव के टुकड़ों को अपने कब्जे में ले लिया है। इंटर का रिजल्ट आने के बाद किसी ने उसे फेल होने की सूचना दी थी इस वजह से उसने जान दे दी। बाद में परिजनों ने मालूम किया तो पता चला कि वह परीक्षा में तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण है। जीआरपी थानाध्यक्ष अली अकबर खान ने बताया कि आरा जिला के चरपोखरी थाना क्षेत्र के कटरी गाँव के निवासी कुबेर कुमार की पुत्री किरण कुमारी (17) ने इंटरमीडिएट की परीक्षा दी थी। परिणाम आने के बाद साथ में पढ़ने वाली किसी सहेली ने उसे फोन कर बताया कि वह फेल कर गयी है। लड़की उस समय जगदीशपुर में अपने ननिहाल आयी हुई थी। जानकारी प्राप्त होते ही उसने अपने पिता को फोन कर कहा कि कहा मैं परीक्षा में फेल हो गई हूँ अब मैं जान दे दूँगी। पिता ने समझाने का प्रयास करते हुए कहा कि मैं पता करता हूँ कि रिजल्ट क्या है। घर वाले अभी रिजल्ट पता कर ही रहे थे लड़की ने रघुनाथपुर स्टेशन पर ट्रेन से कट कर जान दे दी। बाद में रिजल्ट भी मालूम चला कि वह परीक्षा में उत्तीर्ण है।
परीक्षा में फेल होने पर पंखे से झूली खुशबू
वहीं दूसरी घटना पीरपैंती थाना क्षेत्र के सलेमपुर पंचायत के योगिया तालाब गांव की है जहां इंटर की परीक्षा में फेल होने की खबर सुन कर मंगलवार को छात्रा खुशबू कुमारी पंखे से अपना दुपट्टा बांधकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। छात्रा एसएसवी कॉलेज कहलगांव में इंटर साइंस की स्टूडेंट थी। मंगलवार को करीब 2 बजे दिन में किसी दोस्त ने उसे सूचना दी कि तुम इंटर में फेल हो गई हो । खुशबू खबर सुन अपने कमरा में खूब रोई। इसके बाद गले में दुपट्टा बांध पंखा में लटक कर जान दे दी। युवती अपने नाना के घर में बचपन से रह कर पढ़ाई करती थी। घटना के समय नाना रामगोपाल महतो, मामा सुदर्शन महतो बाहर काम कर रहे थे। नानी जयंती देवी दरवाजे पर बैठी थी। कुछ देर बाद कुछ कार्य के लिए नानी खुशबू को आवाज लगाई, तो कोई जबाब नहीं आने पर नानी उसके कमरे में गई, तो देखी कि खुशबू पंखा से लटकी हुई है। नानी चिल्लाने लगी और बाहर काम कर रहे मामा, नाना आस-पास के परिजनों के साथ पहुंच कर पंखा से नीचे उतारा लेकिन तब तक खुशबू की जान जा चुकी थी। खुशबू साहेबगंज तालबन्ना की रहने वाली थी। प्राथमिक शिक्षा योगिया तालाब विद्यालय से प्राप्त करने के बाद आर डी पी हाई स्कूल दुबौली से 2015 में प्रथम श्रेणी से मैट्रिक पास की थी । अपना नाम एसएसवी कॉलेज कहलगांव में नामांकन कराकर विज्ञान लेकर पढ़ रही थी । ।
रिजल्ट में फेल सुनकर सदमे से छात्रा की मौत
तीसरी घटना रामगढ थाना क्षेत्र के लबेदहा गांव की है जहां रमजान अंसारी की पुत्री रूखसाना की फेल होने की खबर सुनकर सदमे से मौत हो गई। परिजनो ने ठीक से कापी नहीं जांचने का आरोप लगाया है। परिजनों के मुताबिक रुखसाना पढ़ने में अच्छी थी।
यौन शोषण की शिकार छात्रा ने हालात से लड़कर दर्ज की जीत
यौन शोषण की पीड़ित नाबालिग ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की परीक्षा प्रथम श्रेणी से पास कर ली है। आरएमडब्ल्यू काॅलेज से पीड़ित नाबालिग ने आईएससी की परीक्षा दी थी। पीड़ित नाबालिग को 308 अंक प्राप्त हुए हैं। नाबालिग के पिता बेटी की सफलता पर खुश हैं, लेकिन कोचिंग संचालक द्वारा यौन शोषण की घटना से काफी मर्माहत हैं। वह कहते हैं कि बेटी को बेहतर शिक्षा दिए जाने के लिए कोचिंग भेजे थे, लेकिन नवीन मेहता ने उनकी बेटी की जिंदगी तबाह कर दी। गुरु ऐसी हरकत करेंगे तो लोग अपनी बेटियों को कैसे पढ़ा पाएंगे। गुरु को यह भी सोचना चाहिए कि उनकी बेटी, बहन भी कहीं शिष्या होती है। दूसरी तरफ, पीड़ित नाबालिग हिम्मत नहीं हारी है। उसने कहा है कि वह आगे पढ़ाई जारी रखेगी। पढ़ाई पूरी कर जिम्मेदार नागरिक बनेगी। लेकिन उस आरोपी कोचिंग संचालक को नहीं छोड़ेगी। उसे कानून से सजा दिलाएगी। सजा दिलाना उसके जीवन का मकसद रह गया है। पीड़ित नाबालिग चाहती है कि जिस तरह से उसके जीवन को बर्बाद किया गया है, उस तरह से किसी और का जीवन बर्बाद नहीं हो, इसलिए वह कोचिंग संचालक को सजा दिलाने तक कानूनी लड़ाई लड़ेगी। ताकि कोई गुरु अपनी शिष्या के साथ ऐसा बर्ताव करने के पहले हजारों बार सोचे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here