महाराष्ट्र में किसानों का प्रदर्शन, सड़कों पर बहाया हजारों लीटर दूध

0
420

कर्ज माफी की मांग के साथ महाराष्‍ट्र में कई जिलों के किसान आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के साथ इस संबंध में वार्ता विफल होने के बाद उन्‍होंने यह कदम उठाया है। विरोधस्‍वरूप कई जगहों पर किसानों ने हजारों लीटर दूध बहा दिए और सब्जियों व फलों की आपूर्ति रोक दी गई। उन्‍होंने पहले ही इसकी चेतावनी दी थी कि अगर उनकी मांग नहीं पूरी की गई तो वे शहरों तक दूध, फल-सब्‍जी नहीं पहुंचने देंगे। इस बीच, नासिक, सतारा, पुणे सहित कुछ जगहों पर छिटपुट हिंसा की वारदातें भी सामने आई हैं। सतारा के पास किसानों ने एक दूध टैंकर चालक पर हमला बोल दिया। नासिक के पास कुछ पुलिस वाहनों पर पथराव भी किया गया। अहमदनगर जिले में किसान हाईवे पर दूध गिराकर विरोध करते नजर आए। कृषि उत्‍पादों की गिरती कीमतों और अन्‍य संबंधित मुद्दों को लेकर किसान कर्ज से मुक्ति चाहते हैं। हड़ताल के कारण मुंबई और पुणे जैसे शहरों में सब्जियों, फलों इत्‍यादि को लेकर संकट पैदा हो सकता है। किसानों ने चेतावनी दी है कि वे एक जून से शहरों में जाने वाले दूध, सब्जी समेत अन्य उत्पादों को रोक देंगे।
आम लोगों का दैनिक जीवन हो सकता है प्रभावित : इससे आम लोगों को दैनिक जरूरत की चीजों को लेकर दिक्‍कतों का सामना करना पड़ सकता है। रिपोर्टों के अनुसार, नासिक जिले के किसान गुजरात को भी कृषि उत्‍पाद सप्‍लाई नहीं करेंगे। एक सब्‍जी विक्रेता ने बताया आज बातार में सब्जियों और फलों की आपूर्ति अच्‍छी नहीं हुई है। खरीददारों को दिक्‍कतें हो सकती हैं, वहीं हमें भी क्‍योंकि हम रोजाना कमाने वाले लोग हैं। वहीं एक दूसरे सब्‍जी विक्रेता ने मांग की कि यहां भी कर्ज माफ कर देना चाहिए जैसा कि उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने अपने राज्‍य ने किया है। क्‍योंकि सब्जियों और फलों की कम आपूर्ति के कारण खुद ब खुद मांग के आधार पर इनकी कीमतें बढ़ जाएंगी।
मुख्‍यमंत्री से वार्ता विफल होने पर उठाया कदम : गौरतलब है कि मंगलवार को विभिन्‍न किसान संगठनों की एक राज्‍य स्‍तरीय समन्‍वय समिति ‘किसान क्रांति मोर्चा’ के प्रतिनिधि इस मुद्दे पर चर्चा के लिए मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस से मुंबई स्थित उनके आधारिक आवास पर मिले, मगर वार्ता विफल रही। ऐसे में किसानों ने अपने हड़ताल को और स्‍थगित ना करने का फैसला लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here