रिलायंस जियो का एयरटेल पर आरोप, बैन के बावजूद कश्मीर में एयरटेल नेटवर्क कर रहा काम

0
100

नई दिल्लीः टेलीकॉम कंपनी रिलायंस जियो ने अपनी सबसे बड़ी कंपिटिटिव कंपनी एयरटेल पर आरोप लगाया है कि जम्मू कश्मीर में मोबाइल सेवा निलंबित होने के आदेश के वाबजूद भारती एयरटेल राज्य में प्रीपेड कनेक्शन पर ‘इनकमिंग कॉल’ की सुविधा दी है. इस बड़े आरोप को एयरटेल की ओर से साफ खारिज कर दिया गया है.

वहीं दूसरी तरफ भारती एयरटेल ने दूरसंचार विभाग के सामने रिलायंस जियो के खिलाफ जवाबी शिकायत दर्ज करायी है. इसमें आरोप लगाया गया है कि नई कंपनी प्रीपेड कनेक्शन को पोस्टपेड के नेटवर्क के रुप में दिखा रही है.

सूत्रों के मुताबिक कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक के समक्ष जमा अनुपालन पत्र में जियो ने आरोप लगाया कि एयरटेल ने प्रीपेड ग्राहकों के लिए इनकमिंग कॉल की अनुमति दी जो सरकार के आदेश का स्पष्ट उल्लंघन है. पुलिस महानिरीक्षक ने टेलीफोन सर्विसेज सस्‍पेंड करने का आदेश जारी किया था.

कंपनी ने आदेश का उल्लंघन करने को लेकर एयरटेल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है. इस बारे में संपर्क किए जाने पर एयरटेल ने आरोप से इनकार किया. दूसरी तरफ उसने यह आरोप लगाया कि जियो ने प्रीपेड कनेक्शन को पोस्ट-पेड कनेक्शन के रूप में दिखाकर नियमों का उल्लंघन किया है.

एयरटेल के प्रवक्ता ने कहा, ‘ये आरोप पूरी तरह गलत, आधारहीन है और केवल जियो की निराशा को बताता है. हम जियो से कहेंगे कि वह तथ्‍य जुटाएं. केवल हवा में तीर ना छोड़ें. एयरटेल हमेशा से सभी नियमों का पालन करता रहा है और आगे भी ऐसा करता रहेगा.’

एयरटेल ने कहा कि जियो के जम्‍मू कश्‍मीर में प्रीपेड उपभोक्‍ताओं को पोस्‍टपेड बताकर नियमों का खुलेआम उल्‍लंघन करने के मुद्दे को उठाए जाने के चलते जियो इस तरह के झूठे आरोप लगा रहा है. यह सब मामले से ध्‍यान भटकाने के लिए है. उसने कहा कि प्रशासन को नियमों का असम्‍मान करने के लिए जियो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.

रिलायंस जियो की शिकायत के बाद भारती एयरटेल ने इसके खिलाफ दूरसंचार विभाग में आवेदन दिया है. इसमें कहा गया है जियो ने यह दावा किया है कि 95 प्रतिशत उसके ग्राहक (करीब सात लाख ग्राहक) पोस्टपेड ग्राहक हैं जबकि ये सब प्रीपेड ग्राहक हैं और यह लाइसेंस शर्तों का उल्लंघन है. जियो जानबूझकर प्रीपेड उपभोक्‍ताओं को पोस्‍टपेड के रूप में दिखा रहा है, जिससे कि आर्थिक फायदा और प्रतिस्‍पर्धात्‍मक बढ़त ली जा सके. यह सब राष्‍ट्रीय सुरक्षा की कीमत और सुरक्षाबलों की जान खतरे में डालकर किया जा रहा है.

जियो की ओर से एयरटेल के आरोपों का खंडन किया गया है. उसकी ओर से कहा गया है कि यह पूरी तरह से आधारहीन, छवि खराब करने वाला और यह आरजेआईएल का जानबूझकर अपमान करना है. उसने कहा कि ऐसा लगता है कि एयरटेल ने दूरसंचार विभाग को जो खत भेजा है वह जवाबी कार्रवाई से ज्‍यादा कुछ नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here