इंटर रिजल्ट में गड़बड़ी : रजिस्ट्रेशन में होम साइंस, फॉर्म में भरा सोशियोलॉजी

0
493

पटना : अच्छे अंक लाने के लिए गणेश कुमार ने कई पैतरे बदले. एक विषय से दूसरे विषय में बदलाव किया, ताकि उसे अच्छे से अच्छे अंक आये. गणेश कुमार ने जिस विषय में रजिस्ट्रेशन करवाया, उस विषय को परीक्षा फाॅर्म भरने के समय बदल दिया. समिति सूत्रों की मानें तो गणेश कुमार ने इंटर के रजिस्ट्रेशन में होम साइंस रखा था. द्वितीय राष्ट्रीय भाषा के रूप में 50 हिंदी के साथ 50 नंबर का संस्कृत लिया था. लेकिन, परीक्षा फाॅर्म भरने के समय विषयों को बदल दिया. होम साइंस की जगह सोशियोलॉजी लिया और संस्कृत की जगह मैथिली ले ली.

भाषा विषय में भी गणेश ने किया फेरबदल : होम साइंस चुकी अधिकतर छात्राएं ही लेती हैं. कहीं बिहार विद्यालय परीक्षा समिति उसे पकड़ न ले, इसके लिए उसने परीक्षा फाॅर्म भरने के समय होम साइंस के बदले सोशियोलॉजी ले िलया. वहीं संस्कृत में मार्क्स कम आते हैं. इससे कहीं अंक कम न हो जाये. इस कारण संस्कृत के बदले मैथिली विषय को चुना. समिति सूत्रों की मानें तो परीक्षा फाॅर्म भरते समय रजिस्ट्रेशन के विषय में बदलाव करने की सुविधा समिति द्वारा दी जाती है. छात्र अपने विषय में बदलाव कर सकते हैं. इसका फायदा गणेश कुमार ने उठाया.
दूसरी बार में बदला था गणेश ने अपना विषय गणेश कुमार ने विषय में परिवर्तन परीक्षा फाॅर्म भरने के बाद किया था. पहली बार जब परीक्षा फाॅर्म भरा तो होम साइंस ही रखा था.

लेकिन जब समिति की ओर से विषय में परिवर्तन का आॅप्शन दिया गया तो गणेश कुमार ने अपने विषय में बदलाव कर होम साइंस के बदले सोशियोलॉजी लिया. समिति सूत्रों की मानें तो चुकी रामनंदन सिंह जगदीश नारायण इंटर कॉलेज, चकहबीब, ताजपुर, समस्तीपुर में होम साइंस की पढ़ाई नहीं होती थी. इससे कहीं वह पकड़ में न आ जाये, इस कारण गणेश कुमार ने होम साइंस के बदले सोशियोलॉजी ले लिया.

पुलिस छावनी में तब्दील हुआ काउंसिल

छात्रों का विराेध-प्रदर्शन रुकने का नाम नहीं ले रहा है. सोमवार को भी सैकड़ों छात्र इंटर काउंसिल पहुंचे और जम कर बिहार बोर्ड के खिलाफ नारेबाजी की. काउंसिल के गेट पर बैठ गये और रिजल्ट की गड़बड़ी को सही करने की मांग की. छात्र स्क्रूटनी नहीं पुन: मूल्यांकन की मांग कर रहे थे.

अपनी मांगों को लेकर छात्र इंटर काउंसिल गेट के पास जमे रहे. इस दौरान छात्रों ने कई बार सड़क भी जाम की. पुलिस ने पहले समझाने की कोशिश की, छात्र नहीं माने तो फिर पुलिस ने लाठीचार्ज कर उन्हें खदेड़ दिया. सोमवार को एआइएसएफ के नेतृत्व में छात्रों ने कई घंटों तक हंगामा किया. छात्र संगठन के कुछ सदस्यों को पुलिस पकड़ कर कोतवाली थाने भी ले गयी. इंटर काउंसिल पुलिस छावनी में तब्दील हो गयी है. काउंसिल के दोनों गेट को बंद कर दिया गया है. जेइइ के परीक्षार्थियों के आवेदन बाहर से ही लिये जा रहे हैं. एआइएसएफ के राज्य सचिव सुशील कुमार ने बताया कि इंटर में हुई गड़बड़ी की जांच की मांग को लेकर मंगलवार को सीएम हाउस मार्च किया जायेगा. सुनवाई नहीं हुई, तो अाठ जून को प्रदेश भर में चक्का जाम कर आंदोलन को और तेज किया जायेगा.

शिक्षा मंत्री को गिरफ्तार कर जेल भेजने की मांग

पटना : इंटर की परीक्षा में आठ लाख छात्र-छात्राओं के साथ की गयी नाइंसाफी के खिलाफ जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय संरक्षक सह सांसद पप्पू यादव के आह्वान पर सोमवार को छात्र परिषद ने राज्य भर के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को बंद कराने का दावा किया है. पटना में जन अधिकार छात्र परिषद के प्रदेश अध्यक्ष गौतम आनंद के नेतृत्व में पटना विवि और उपाध्यक्ष विकास यादव के नेतृत्व में मगध विवि के राजेंद्र नगर स्थित पटना शाखा इकाई और कॉलेज ऑफ कॉमर्स को बंद कराया गया. गौतम आनंद ने बताया कि शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी को गिरफ्तार कर जेल भेजने और उनके इस्तीफे की मांग की गयी है. टॉपर घोटाले की जांच सीबीआइ से कराने की मांग की गयी है.

पटना. राज्यस्तरीय स्नातकोत्तर प्लस-टू शिक्षक संगठन के प्रदेश महासचिव डाॅ कृतंजय चौधरी ने कहा कि स्कूलों में गुणवत्ता लाने के बाद ही शिक्षा व्यवस्था में सुधार हो सकता है. जिस तरह से मुख्य सचिव ने शिक्षकों पर कार्रवाई की बात कहीं है, उसमें पहले स्कूलों की स्थिति को समझने की जरूरत है. वहीं शिक्षा प्रकोष्ठ, बिहार प्रदेश भाजपा के संयोजक डाॅ सुधाकर प्रसाद सिंह ने शिक्षकों के बजाय बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर को बरखास्त करने की मांग की है. पब्लिक मिशन पार्टी के अध्यक्ष संजय सिंह ने कहा है कि बिहार की शिक्षा व्यवस्था पूरी तरह से दलाल तंत्र हो गयी है.

पटना. इंटरमीडिएट के रिजल्ट में हुई गड़बड़ी और लाठीचार्ज के खिलाफ आप का अनशन जारी है. पार्टी के मीडिया प्रभारी बबलू कुमार प्रकाश की अगुवाई में कई छात्र-छात्राएं अनशन कर रहे हैं. गांधी मैदान में गांधी मूर्ति के समीप अनशन-स्थल पर दिन भर छात्र-छात्राओं का आना जाना लगा रहा. बबलू कुमार प्रकाश ने कहा कि जब तक पुनर्मूल्यांकन का आदेश नहीं होगा, तब तक अनशन जारी रहेगा. स्कूलों में पढ़ाई नहीं हो रही है.

सैकड़ों ऐसे स्कूल सामने आये हैं जहां के एक भी छात्र इंटरमीडिएट पास नहीं कर पाये. उन्होंने कहा कि कल आप मुख्यमंत्री को शिक्षा-नीति एवं व्यवस्था में सुधार के उद्देश्य से अपना मांग-पत्र सौंपेगी. पार्टी के पटना साहिब लोकसभा क्षेत्र के को-ऑर्डीनेटर मनोज कुमार ने कहा कि राज्य के शिक्षकों से चुनाव ड्यूटी, जनसंख्या गणना, खाना बनवाने जायेंगे तो शिक्षा का यह हाल होना स्वाभाविक है. अनशन करनेवालों में बबलू प्रकाश के साथ पाटलिपुत्रा लोकसभा के सह-को-ऑर्डीनेटर ब्रह्म प्रकाश भी शामिल हैं. छात्रा कामिनी कौशल ने भी अनशन शुरू किया.

कमीशन के लिए संजय बन जाता था अभिभावक

पटना : टॉपर गणेश को पटना पुलिस की टीम ने दो दिनों की रिमांड पर ले लिया है. पुलिस को अदालत द्वारा जैसे ही रिमांड पर लेने की इजाजत मिली, वैसे ही एक टीम सोमवार को बेऊर जेल पहुंच गयी. अावश्यक प्रक्रिया पूरी करने के बाद गणेश को अपने साथ ले आयी.

पुलिस अब गणेश से गुप्त स्थान पर पूछताछ करने में लगी है. पुलिस उससे यह जानना चाहती है कि उसने किस तरह से नौवीं में नामांकन कराया. हालांकि, यह मामला भी उजागर हो चुका है कि उसने एजेंट संजय के माध्यम से समस्तीपुर के संजय गांधी उच्च विद्यालय से नौवीं में नामांकन कराया था और इसमें संजय ने अभिभावक की भूमिका निभायी थी. जन्मतिथि को लेकर भी उसने घोषणापत्र दिया था.

डायरेक्ट रजिस्ट्रेशन पर हो रहा पुलिस का अनुसंधान : पुलिस अब डायरेक्ट रजिस्ट्रेशन के खेल का परदाफाश करने में लगी है. पुलिस को यह जानकारी मिली है कि उक्त स्कूल से डायरेक्ट रजिस्ट्रेशन भी होता था और स्कूल द्वारा भेजी गयी लिस्ट पर ही बिहार बोर्ड से रजिस्ट्रेशन नंबर मिल जाता था. अगर पुलिस की संभावना सच हुई और साक्ष्य मिले तो फिर इसमें कई अन्य अधिकारियों की भी गरदन फंस सकती है.
पुलिस के सवाल

पुलिस : क्या आपने उम्र छुपा कर नौवीं में एडमिशन कराया था.
गणेश : हां
पुलिस : आपको यह नहीं पता है कि उम्र छुपा कर दाेबारा परीक्षा देना गलत है.
गणेश : परीक्षा देकर कोई गुनाह नहीं किया है. नौकरी के लिए ऐसा किया.
पुलिस : संजय से पहचान कैसे हुई?
गणेश : मैंने पहले मैट्रिक में डायरेक्ट रजिस्ट्रेशन कराने के लिए कई लोगों से बात की थी. लेकिन, ऐसा नहीं हुआ और फिर मुझे समस्तीपुर में ही एक व्यक्ति ने संजय का मोबाइल नंबर दिया था और उससे बात की तो वह तैयार हो गया.
पुलिस : क्या अापने खुद से ही प्रश्नपत्र का आंसर दिया है?
गणेश : हां, मैंने पढ़ाई की है.
पुलिस : मूल्यांकन में भी पैरवी की थी?
गणेश : नहीं, परीक्षा पास कराने की सारी जिम्मेवारी संजय की थी.
पुलिस : क्या वह वहां की हेडमास्टर, एजेंट संजय आदि को पहचानते हैं?
गणेश : हां, मैं सभी को जानता हूं.

पुलिस : क्या उस स्कूल से परीक्षा के लिए डायरेक्टर रजिस्ट्रेशन भी होता था?

गणेश : होता होगा, इस बात की जानकारी नहीं है. मैंने नौवीं में इसलिए एडमिशन लिया था, ताकि कहीं भी कोई गड़बड़ी नहीं हो.
हेडमास्टर समेत तीन को कराया गया आमने-सामने

पटना पुलिस की टीम ने संजय गांधी उच्च विद्यालय की हेडमास्टर देव कुमारी, उनके पति व स्कूल के पूर्व सचिव राजकुमार चौधरी व उसके बेटे गौतम कुमार को भी गिरफ्तार किया था. स्कूल के तमाम रजिस्टर व अन्य दस्तावेजों को भी जब्त कर लिया है. इन सभी को रविवार की देर पटना के कोतवाली थाना लाया गया.

इधर, पटना पुलिस की टीम ने गणेश को रिमांड पर लेने के बाद संजय, गणेश, हेडमास्टर देव कुमारी, उसके पति राजकुमार चौधरी, बेटा गौतम सभी को आमने-सामने बैठा कर पूछताछ की. सूत्रों के अनुसार गणेश ने सभी की पहचान कर ली और जानकारी दी कि वह संजय व स्कूल के तमाम लोगों को जानता है. इन्हीं के माध्यम से सारा काम कराया था. वहीं, पुलिस ने पूछताछ के बाद हेडमास्टर देव कुमारी, राजकुमार चौधरी, गौतम व संजय कुमार को जेल भेज दिया. जबकि, गणेश से पूछताछ जारी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here