श्रीलंका के खिलाफ टीम इंडिया को इस चीज पर देना होगा ध्यान, कहीं हो ना जाए उलटफेर

0
91

पाकिस्तान के खिलाफ भारत की जीत ने न सिर्फ दोनों टीमों के बीच अंतर को दिखा दिया, बल्कि दूसरी टीमों को भी संकेत दे दिए कि भारतीय टीम अपने खिताब की रक्षा करने के लिए तैयार है। टीम ने एक अच्छा ऑलराउंड प्रदर्शन किया और उनके शांत व्यवहार ने भी काफी प्रभावित किया। यह एक विशाल जीत थी। मगर भारत को अपनी फील्डिंग पर ध्यान देना होगा। मैच अपनी झोली में आते देखकर वे थोड़े सहज हो गए थे।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ श्रीलंका ने शुरुआत में अच्छी बल्लेबाजी की, लेकिन वे इसे जारी नहीं रख पाए। इसमें कोई शक नहीं है कि एंजेलो मैथ्यूज की वापसी से टीम मजबूत होगी, लेकिन उन्हें ओवर रेट को लेकर कुछ करना होगा। इसकी वजह से उनके कार्यवाहक कप्तान उपुल थरंगा दो मैचों के लिए निलंबित हो गए। उपमहाद्वीप की टीमों के साथ यह समस्या है ही। चार तेज गेंदबाजों के साथ खेल रही भारतीय टीम को भी इस पर ध्यान देना चाहिए, क्योंकि वो नहीं चाहेंगे कि किसी अहम मैच से पहले उनका कप्तान निलंबित हो जाए।

पाकिस्तान के खिलाफ सभी अनुभवी खिलाडि़यों ने अपनी भूमिका अच्छे से निभाई, लेकिन हार्दिक पांड्या की बल्लेबाजी ने सबसे ज्यादा प्रभावित किया। वह अपने कप्तान की तरह आत्मविश्वास से भरे हुए हैं और उन्हीं की तरह वह अपने खेल से जवाब दे रहे हैं। अश्विन की जगह उनके चयन से कुछ लोग नाराज हुए थे, लेकिन उन्होंने बल्ले और गेंद से सभी को चुप करा दिया। अगर कोहली महेंद्र सिंह धौनी की जगह उन्हें फिनिशर की तरह इस्तेमाल करते हैं, तो हैरानी नहीं होगी। जडेजा ने भी शोएब मलिक के आक्रामक रवैये के बाद अपनी भूमिका अच्छे से निभाई और उन्हें आउट किया।

श्रीलंकाई टीम हालांकि अलग होगी क्योंकि उनकी बल्लेबाजी में गहराई है, लेकिन उनके गेंदबाजों की दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों ने जमकर पिटाई की थी। उनकी फील्डिंग में भी सुधार की जरूरत है। श्रीलंका के बायें हाथ के बल्लेबाजों से निपटने के लिए भारत अश्विन को टीम में शामिल कर सकता है। भारत इस समय अच्छी फॉर्म में है और किसी भी टीम के लिए तैयार दिख रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here