सीधे जनता से बात करेंगे CM, शांति बहाली तक दशहरा मैदान में करेंगे उपवास

0
109

मध्यप्रदेश में बिगड़ते हालात को संभालने के लिए राज्य के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने किसानों और प्रदेश की जनता से सीधे बात करने का फैसला किया है। सीएम ने शुक्रवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि वह शनिवार से भोपाल के भेल दशहरा मैदान में लोगों से सीधे मुलाकात करेंगे। साथ ही सीएम ने राज्य में शांति बहाल होने तक उपवास करने का फैसला किया है। सीएम ने कहा, ‘मैं पत्थर दिल इंसान नहीं हूं, चर्चा के लिए दरवाजे हमेशा खुले हैं। कल भेल दशहरा मैदान में सुबह 11 बजे से बैठूंगा, वहीं से सरकार चलाऊंगा।’ बता दें कि मंगलवार को मध्य प्रदेश के मंदसौर में पुलिस फायरिंग में आंदोलन कर रहे 5 किसानों की मौत हो गई थी, जबकि कई घायल हुए थे। मध्यप्रदेश में बिगड़ते हालात को संभालने के लिए राज्य के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने किसानों और प्रदेश की जनता से सीधे बात करने का फैसला किया है। सीएम ने शुक्रवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि वह शनिवार से भोपाल के भेल दशहरा मैदान में लोगों से सीधे मुलाकात करेंगे। साथ ही सीएम ने राज्य में शांति बहाल होने तक उपवास करने का फैसला किया है। सीएम ने कहा, ‘मैं पत्थर दिल इंसान नहीं हूं, चर्चा के लिए दरवाजे हमेशा खुले हैं। कल भेल दशहरा मैदान में सुबह 11 बजे से बैठूंगा, वहीं से सरकार चलाऊंगा।’ बता दें कि मंगलवार को मध्य प्रदेश के मंदसौर में पुलिस फायरिंग में आंदोलन कर रहे 5 किसानों की मौत हो गई थी, जबकि कई घायल हुए थे। शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ‘नकारात्मक तत्वों से निपटना है चुनौती, कानून और व्यवस्था की स्थापना हमारी प्राथमिकता। कुछ लोगों ने युवाओं को पत्थर सौंप दिए हैं।’ उन्होंने कहा, ‘न बल्लभ भवन, न सीएम हाउस में काम करूंगा, बल्कि भोपाल के भेल दशहरा मैदान में काम करते हुए अनिश्चितकालीन अनशन करूंगा।’ राज्य के किसानों की समस्या पर बात करते हुए सीएम ने कहा कि 75 प्रतिशत किसान समय पर पैसा दे रहे हैं, जो 25 प्रतिशत नहीं दे पा रहे उनके लिए समाधान ढूंढा जा रहा है। उन्होंने बताया कि रबी, खरीफ की फसलों की कीमत तय करने के लिए मूल्य स्थिरीकरण कोष बनाया जा रहा है। बता दें कि एमपी में किसान आंदोलन उस समय उग्र हो गया जब पुलिस फायरिंग में 5 किसानों की मौत हो गई। शुरुआत में सरकार ने किसानों की मौत के पीछे पुलिस फायरिंग की खबरों को नकारा, लेकिन बाद में सरकार ने यह बात मानी। बता दें कि एमपी के हिंसाग्रस्त मंदसौर में शुक्रवार को सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे के बीच कर्फ्यू में कुछ ढील दी गई है। यह कोशिश की जा रही है कि इस कर्फ्यू में ढील के दौरान इलाके में सरकारी दफ्तर खुले और स्थानीय लोगों को जरूरत की चीजें मुहैया कराई जाएं। हालांकि यह ढील सिर्फ मंदसौर थाना क्षेत्र में दी जा रही है। गोलीबारी में मारे गए किसान का आज अंतमि संस्कार होना है, जिससे गुस्साए अन्य किसानों ने कुछ जगहों पर चक्का जाम करने की धमकी दी है। कुछ इलाकों में एहतियातन भारी संख्या में पुलिस तैनात कर दी गई है।
मध्य प्रदेश पुलिस ने बयान दिया है कि कर्फ्यू में ढील के दौरान मंदसौर जिले में किसी भी बाहरी व्यक्ति को भी घुसने नहीं दिया जाएगा। आम आदमी पार्टी के नेताओं को भी अंदर आने की अनुमति नहीं होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here