‘जरूरत’ पूरी की जा सकती है ‘हवस’ नहीं

0
584

युवा संसद में बोलें सीएम, सूबे में पूर्ण नशाबंदी सरकार की प्राथमिकता

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दो टूक में कहा कि सूबे में पूर्ण नशाबंदी अब उनकी प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री ने आज पटना के सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर में आयोजित राष्ट्रीय युवा संसद को संबोधित करते हुए कहा कि किसी की नीड (जरुरत) को तो पूरा किया जा सकता है, लेकिन किसी की ग्रीड (हवस) को पूरा नहीं किया जा सकता। किसी भी सामाजिक अभियान को तब तक कामयाबी नहीं मिल सकती जब तक समाज के लोगों की मानसिकता नहीं बदलती। उन्होंने शराबबंदी की चर्चा करते हुए कहा कि यह एक बहुत बड़ी चुनौती थी लेकिन लोगों के सहयोग से इसे कामयाबी मिल रही है। उन्होंने कहा कि शराबबंदी इसीलिए लड़खड़ा जाती है क्योंकि कोई भी ऐसा काम कानून बनाने से सफल नहीं होता बल्कि लोगों की मानसिकता को बदलने से ही इस पर कामयाबी पाई जा सकती है। तमाम लोगों ने इसे सफल बनाया है जिसका प्रमाण है करोड़ उन्नीस लाख लोगों ने शपथ लिया कि हम शराबबंदी के पक्ष में हैं और ना कभी शराब का सेवन करेंगे ना ही किसी को करने देंगे। यह एक बहुत बड़ी बात है। उन्होंने कहा कि कुछ विकृत मानसिकता के लोग हैं जिनकी वजह से इस समाज के भले के लिए गए फैसले पर ग्रहण लगा है। उन्होंने कहा कि अब शराबबंदी की तरह ही बाल-विवाह और दहेज प्रथा के लिए आवाज उठाएंगे और इन कुप्रथाओं को समाज से खत्म करेंगे। नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में राजनीतिक चर्चा खूब होती है। लोग राजनीति में ज्यादा दिलचस्पी लेते हैं। चाय की दुकान हो, गांव की चौपाल हो, हर कोई यह जानना चाहता है कि देश में क्या हो रहा है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here