रूस: पुतिन के खिलाफ प्रदर्शन, विपक्षी नेता समेत 250 गिरफ्तार

0
153

रूस में भ्रष्टाचार विरोधी प्रदर्शनों को लेकर सोमवार को प्रमुख विपक्षी नेता अलेक्सी नावलनी को गिरफ्तार किया गया. इसके साथ ही लगभग 250 अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया.

बता दें कि सेंट पीटर्सबर्ग में हजारों लोगों की रैली में कोई 150 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जबकि कम से कम 97 लोगों को मॉस्को में हिरासत में लिया. इस भीड़ ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ नारे लगाए. पुलिस प्रदर्शनकारियों को हाथ व पैर पकड़कर रोकने की कोशिश की.

नावलनी की पत्नी जूलिया ने ट्वीट किया कि उनके पति सबसे बड़ी रैली में भाग लेने के लिए मॉस्को स्थित अपने घर से जैसे ही निकले, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. नावलनी की प्रवक्ता कीरा यार्मिश ने बताया कि अधिकारियों ने उनके कार्यालय की बिजली भी काट दी.

बता दें कि नावलनी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के घोर आलोचक हैं. साथ ही 2018 के राष्ट्रपति चुनाव के संभावित उम्मीदवार भी हैं. उन्होंने रविवार रात को एक वीडियो के जरिए अपने समर्थकों से शहर के अधिकारियों द्वारा आवंटित पूर्वोत्तर इलाके की जगह मध्य मॉस्को में एकत्र होने के लिए कहा. उन्होंने कहा, कि हम सखारोवा स्ट्रीट पर अपनी रैली को रद्द करते हुए इसे शांतिपूर्वक तरीके से तेवरसकाया में स्थानांतरित कर रहे हैं.

मॉस्को के प्रॉसिक्यूटर कार्यालय ने कहा था, हम चेतावनी देते हैं कि मॉस्को में अवैध तरीके से प्रदर्शन का कोई भी प्रयास कानून का सीधा उल्लंघन होगा. कार्यालय द्वारा यह चेतावनी दी गई थी कि सार्वजनिक सुरक्षा के लिए खतरा बन रही किसी भी कार्रवाई को रोकने के लिए सभी आवश्यक उपाय किए जाएंगे. एक बयान में मॉस्को के पुलिस प्रमुख व्लादिमीर चर्निकोव ने चेतावानी देते हुए कहा कि अधिकारी तख्तियों और नारों के साथ शांति भंग करने वाले किसी भी व्यक्ति को गिरफ्तार कर सकते हैं.

इससे पहले भी हुआ था प्रदर्शन
अधिकारियों की चेतावनी को अनसुना करते हुए नवलनी ने अपने समर्थकों को 26 मार्च को किए गए प्रदर्शन की तरह प्रदर्शन करने पर जोर दिया. इस विपक्षी की रैली में सैकड़ों लोगों को गिरफ्तारी के लिए प्रेरित किया. इसमें नवलनी ने भी गिरफ्तारी दी थी. नवलनी ने पुतिन के आतंरिक कुनबे में फैले भ्रष्टाचार के खिलाफ जमीनी अभियान का नेतृत्व कर चुके हैं. मार्च में किए गए विरोध प्रदर्शन प्रधानमंत्री दमित्री मेदवेदेव के इस्तीफे की मांग को लेकर किए गए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here