इस प्रमुख खिलाड़ी की नाकामी के कारण टूट गया बांग्‍लादेश का फाइनल का सपना

0
270

ढाका: तेज गेंदबाज मुस्तफिजुर रहमान की नाकामी भी चैंपियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल में बांग्लादेश क्रिकेट टीम की हार का कारण रही. मुस्‍तफिजुर ने उम्‍मीद जताई थी कि आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में भारत के खिलाफ उनकी ऑफ कटर गेंदबाजी कमाल दिखाएगी, लेकिन टीम की हार के साथ ही उनका यह विश्वास भी टूट कर बिखर गया. एजबेस्टन मैदान पर खेले गए मैच में भारत ने बांग्लादेश को 9 विकेट से मात देकर फाइनल में प्रवेश किया. बांग्लादेश के समाचार पत्र ‘प्रोथोम आलो’ की रिपोर्ट के अनुसार, 21 वर्षीय मुस्तफिजुर भारतीय टीम के खिलाफ अपनी ऑफ-कटर गेंदबाजी की नाकामी से बेहद निराश हैं. बांग्‍लादेश टीम ने प्रतियोगिता में अपने इस स्‍ट्राइक बॉलर से बेहतरीन प्रदर्शन की उम्‍मीद लगा रखी थी लेकिन यह उम्‍मीदें पूरी नहीं हो सकीं.

भारत के खिलाफ अपनी गेंदबाजी के दौरान छह ओवरों में 53 रन देकर मुस्ताफिजुर एक भी विकेट हासिल कर पाने में नाकाम रहे. टूर्नामेंट में सेमीफाइनल से पहले खेले गए मैचों में मुस्तफिजुर 39 ओवर खेलकर कुल दो ही विकेट ले पाए थे. समाचार पत्र के अनुसार, मुस्तफिजुर के कंधे की चोट उन्हें परेशान कर रही है और वह इससे पूरी तरह से उबर नहीं पाए हैं. बांग्लादेश क्रिकेट टीम के कोच चंडिका हथुरुसिंघा ने कहा कि मुस्तफिजुर अपनी उम्र के हिसाब से काफी चालाक गेंदबाज हैं. वह निश्चित रूप से वापसी करेंगे.

भारत के खिलाफ सेमीफाइनल से पहले मुस्‍तफिजुर ने कहा था कि सुधार का कोई अंत नहीं होता. मेरे कटर्स बांग्लादेश में काफी असरदार होते हैं लेकिन यहां उतना प्रभावित नहीं कर पा रहा. मैं कोशिश कर रहा हूं. उन्होंने कहा था कि मैं अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी का प्रयास करूंगा. गौरतलब है कि 21 साल के मुस्‍तफिजुर ने अब तक 21 वनडे मैचों में 18.59 के प्रभावशाली औसत से 44 विकेट हासिल किए हैं. गेंदबाजी में उनका स्‍ट्राइक रेट 23.4 और इकोनॉमी 4.76 का है. अपने वेरिएशंस के कारण मुस्‍तफिजुर शॉर्टर फॉर्मेट के बेहतरीन गेंदबाजों में शुमार किए जाते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here