ट्रांसजेंडर और महिलाओं को रोजगार देने के लिए पीएम मोदी ने की कोच्चि मेट्रो की तारीफ

0
176

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोच्चि मेट्रो में महिलाओं और ट्रांसजेंडर लोगों पर विशेष ध्यान देने के लिए तारीफ की। पीएम ने मेट्रो का उद्घाटन करने के बाद कहा कि कोच्चि मेट्रो में लगभग 1,000 महिलाओं और 23 ट्रांसजेंडरों को रोजगार मिलेगा। कोच्चि मेट्रो ने सैकड़ों महिलाओं के साथ ही ट्रांसजेंडर को नौकरी देकर लैंगिक न्याय की दिशा में अच्छी पहल की है। कोच्चि मेट्रो रेल लिमिटेड ट्रांसजेंडर लोगों को नौकरी पर रखने वाली पहली सरकारी एजेंसी है। पीएम मोदी ने शनिवार को केरल में कोच्चि मेट्रो रेल का उद्धाटन किया और इसके बाद मेट्रो की सवारी भी की। यह देश की पहली परिवहन प्रणाली है, जिसमें समलैंगिकों के लिए रोजगार आरक्षित है। कोच्चि मेट्रो को ज्यादातर महिलाएं ही चलाएंगी। मेट्रो में ट्रांसजेंडर्स को उनकी योग्यता के मुताबिक हाउस कीपिंग, टिकट काउंटर जैसे अलग-अलग विभागों में काम की जिम्मेदारी दी गई है। देश में शायद ये पहली बार हो रहा है कि सरकार के अंडर काम करने वाली एक कंपनी इतनी ज्यादा संख्या में थर्ड जेंडर लोगों को नौकरी दे रही है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘शहर की आबादी बढ़ रही है और इसके 2021 तक 23 लाख होने की संभावना है। इसलिए शहरी बुनियादी ढांचे पर पड़ रहे दबाव से निपटने के लिए एक तीव्र परिवहन प्रणाली जरूरी थी। इससे कोच्चि की आर्थिक विकास दर बढ़ाने में मदद मिलेगी।’ मोदी ने इस दौरान मेक इन इंडिया का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘मेट्रो के डिब्बों से मेक इन इंडिया का विजन झलकता है। इन डिब्बों का निर्माण चेन्नै के पास स्थित एल्सटॉम ऑफ फ्रांस कारखाने में किया गया है।’ इसके पहले दिल्ली से यहां नेवी एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद मोदी पलारीवत्तोम स्टेशन गए और वहां से पताडिप्पलम के बीच मेट्रो में यात्रा की। इस दौरान केरल के राज्यपाल पी सदशिवम, मुख्यमंत्री पी विजयन और केंद्रीय शहरी विकास मंत्री एम वैंकेया नायडू एवं ‘मेट्रो मैन’ ई श्रीधरन उन लोगों में शामिल रहे जो प्रधानमंत्री के साथ ट्रेन में थे। कोच्चि मेट्रो की इस 13 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन में पलारीवत्तोम से अलुवा तक 22 स्टेशन हैं। आम जनता के लिए मेट्रो सोमवार से सुबह 6 बजे से खुल जाएगी। कोच्चि मेट्रो का काम 2012 में शुरू हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here