India vs West Indies : बिना कोच के ही वेस्टइंडीज के छक्के छुड़ाने को तैयार कोहली के रणबांकुरे

0
174

नई दिल्ली: आज से शुरू होने जा रही भारत और वेस्टइंडीज के बीच 5 वनडे मैचों की सीरीज पर सभी की आंखें गढ़ी हुई हैं. इंग्लैंड में आईसीसी चैंपियन्स ट्रॉफी गंवाने के बाद भारत त्रिनिदाद और टोबैगो में होने जा रहे इन मैचों में कोई ऐसी गलती दोहराना नहीं चाहता जिससे उसकी किरकिरी हो.

इस सीरीज़ में भारत कैरेबियाई टीम के खिलाफ पांच वनडे और एक टी-20 मैच खेलेगा. वनडे मैचों का आयोजन 23 जून से 6 जुलाई तक होगा और टी-20 सबीना पार्क में नौ जुलाई को खेला जाएगा.

कप्तान विराट कोहली अपनी टीम में कुछ बदलाव और सुधार कर अपने रणबांकुरों के साथ विरोधी टीम को चुनौती देते नज़र आएंगे. कोहली ने इस सीरीज़ में रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमराह की जगह कुलदीप यादव और ऋषभ पंत को अपना जौहर दिखाने का मौका दिया है.

इनके अलावा खुद कप्तान विराट कोहली, शिखर धवन, हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी, ऋषभ पंत और कुलदीप यादव पर भी सभी की नज़रें रहेंगी.

कप्तान कोहली ने चैंपियंस ट्रॉफी में अच्छे खेल का प्रदर्शन किया था. उन्होंने इस श्रृखंला में तीन अर्धशतक रन बनाए थे. चैंपियंस ट्रॉफी की हार का दबाव टीम के साथ कप्तान पर ज्यादा रहेगा. विराट को इसमें बेहतरीन खिलाड़ी के साथ-साथ कुशल रणनीतिकार की भूमिका अदा करनी होगी.

शिखर धवन की बात करें तो इंग्लैंड में इनके बल्ले ने खूब धमाल दिखाया. इसी फॉर्म को उन्हें इस सीरीज़ में भी बरकरार रखना होगा. चैंपियंस ट्रॉफी में शिखर ने शानदार 338 रन बनाए और मैन ऑफ द सीरीज़ का खिताब जीता.

हार्दिक पांड्या ने चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में धमाकेदार खेल का प्रदर्शन कर अपने चाहने वालों को कुछ ज्यादा ही उम्मीदें दे दी हैं. पांड्या से उनके चाहने वालों को बल्ले के साथ-साथ गेंदबाजी में कुछ अलग कर दिखाने की चाहत रहेगी.

स्ट्राइक तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की गेंद इस सीरीज़ में क्या कमाल दिखाती है यह तो मैच के दौरान साफ हो जाएगा, लेकिन उनके चाहने वाले उनसे कुछ ज्यादा ही उम्मीद लगाए बैठे हैं.

भुवी के अलावा कुलदीप यादव भी अब दुश्मन के दांत खट्टे करने के लिए हर तरह से तैयार हो चुके हैं. अंतरराष्ट्रीय मैचों में वे लगातार अनुभव हासिल कर रहे हैं और बेहतर खेल का प्रदर्शन कर रहे हैं. उधर, मोहम्मद शमी भी अब पूरी तरह फिट हैं. वेस्टइंडीज की पिचों पर खेलने का उन्हें अच्छा अनुभव है. अब देखना होगा कि कोहली की टीम बिना कोच के मैदान में उतर कर कितना कमाल दिखा पाती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here