महाराष्ट्र में भी कर्ज माफी का ऐलान, किसानों का 1.5 लाख रुपये तक का लोन माफ

0
699

यूपी, पंजाब की तरह महाराष्ट्र में भी किसानों को कर्ज माफी की सौगात मिल गई। हालांकि सरकार ने इसका वादा पहले ही कर दिया था, शनिवार को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राज्य के 90% किसानों के कर्ज को माफ करने की घोषणा की। किसानों का 1.5 लाख रुपये तक का कर्ज माफ कर दिया गया है। इसका फायदा राज्य के 89 लाख किसानों को होगा। इसके अलावा सरकार नियमित रूप से कर्ज का भुगतान करने वाले किसानों को भी अधिकतम 25 हजार रुपये तक प्रोत्साहन राशि देगी। सरकार ने इसे ‘छत्रपति शिवाजी महाराज कृषि सम्मान योजना’ का नाम दिया है और इससे सरकारी खजाने पर 34 हजार करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा, ‘इस फैसले से पड़ने वाले बोझ के बारे में जानते हैं और हम इसके लिए अपने खर्चों में कटौती करेंगे। सभी मंत्री और विधायक किसानों की मदद के लिए 1 महीने का वेतन दान करेंगे।’ बता दें, राज्य सरकार पर कर्ज माफी का काफी दबाव था। सरकार ने इसके लिए एक उच्चाधिकार प्राप्त मंत्री समूह का गठन किया था। किसान एक बार फिर 25 जुलाई से आंदोलन की चेतावनी दे चुके थे। महाराष्ट्र विधानसभा का अगला सत्र भी शुरू होने वाला है। कर्ज माफी का ऐलान ऐसे समय में हुआ है जब केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू इसे फैशन बता चुके हैं। उन्होंने कहा था कि लोन माफ करना समस्या का आखिरी समाधान नहीं है।
इससे पहले यूपी, पंजाब और कर्नाटक में भी किसानों का कर्ज माफ किया जा चुका है। कर्नाटक सरकार ने राज्य के 22 लाख किसानों के सहकारी बैंकों से लिए 50,000 रुपये तक के फसल ऋण माफ करने का फैसला किया तो पंजाब में भी मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अपने चुनावी वादों को पूरा किया। राज्य में 10.25 लाख किसानों का लोन माफ किया गया है। पंजाब पर इस कर्ज माफी से 24 हजार करोड़ का भार पड़ेगा।
अप्रैल में उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार ने छोटे और मझोले किसानों का फसली कर्ज माफ कर दिया। सूखा, ओला, बाढ़ से प्रभावित 2.30 करोड़ किसान कर्ज माफी के दायरे में आएंगे। राज्य सरकार ने 30,729 करोड़ रुपये का ऋण माफ किया गया है। इसमें लगभग एक लाख तक का फसली ऋण माफ किया गया। 7 लाख किसानों का 5630 करोड़ एनपीए भी माफ कर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here