महिला विश्व कप: भारत के सामने इंग्लैंड की कड़ी चुनौती

0
749

डर्बी (इंग्लैंड)। पिछले कुछ समय से लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वाली मिताली राज की अगुआई वाली भारतीय टीम को आईसीसी महिला विश्व कप में शनिवार को अपने शुरुआती मैच में खिताब के प्रबल दावेदार मेजबान इंग्लैंड की कड़ी चुनौती का सामना करना होगा।

पहले दिन दूसरा मैच श्रीलंका और न्यूजीलैंड के बीच ब्रिस्टल में खेला जाएगा। भारतीय टीम का हाल में प्रदर्शन शानदार रहा है। दक्षिण अफ्रीका में खेले गए चार देशों के टूर्नामेंट में उसने मेजबान देश को फाइनल में आठ विकेट से धोकर सीरीज जीती थी। भारतीय टीम अंग्रेजों के खिलाफ भी ऐसा प्रदर्शन बरकरार रखकर जीत के साथ अपने अभियान की शुरुआत करना चाहेगी।

कभी नहीं जीता है खिताब : भारत अभी तक एक बार भी विश्व कप नहीं जीत पाया है। 2005 की उपविजेता भारतीय टीम ने इस बार क्वालीफायर खेलकर टूर्नामेंट में जगह बनाई। भारत ने अगर पाकिस्तान के खिलाफ आइसीसी महिला चैंपियनशिप के तीन मैच खेले होते तो वह सीधे क्वालीफाई कर लेता। लेकिन यह मैच नहीं खेलने से उसे छह अंक गंवाने पड़े थे। भारत तालिका में 19 अंक लेकर पांचवें स्थान पर रहा था और उसे श्रीलंका में क्वालीफायर से गुजरना पड़ा। भारतीय टीम उसमें भी अजेय रही थी और उसने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ रोमांचक फाइनल में एक विकेट से जीत दर्ज की थी।

टीम इंडिया की ताकत : मिताली के रूप में भारत के पास सबसे अनुभवी खिलाड़ी है, जो हाल में 100 वनडे में टीम की अगुआई करने वाली दुनिया की तीसरी खिलाड़ी बनी थी। उन्होंने लगातार छह मैचों में अर्धशतक जमाए और अपनी इस फॉर्म को वह यहां भी बरकरार रखना चाहेंगी। टॉप ऑर्डर में दीप्ति शर्मा और पूनम राउत के रूप में अच्छी सलामी जोड़ी है। इन दोनों ने चार देशों के टूर्नामेंट में रिकॉर्ड 320 रन की साझेदारी की थी। स्मृति मंदाना ने चोट से उबरने के बाद वापसी की है, जिससे भारतीय बल्लेबाजी को मजबूती मिली है। इसके अलावा मोना मेशराम, हरमनप्रीत कौर और वेदा कृष्णमूर्ति के तौर पर भारत के पास अच्छी बल्लेबाज हैं। वनडे में सर्वाधिक विकेट लेने वाली झूलन गोस्वामी भारतीय आक्रमण की अगुआई करेंगी। उन्हें शिखा पांडे और मानसी जोशी का साथ मिलेगा। इसके अलावा स्पिनर एकता बिष्ट, राजेश्वरी गायकवाड़ और पूनम यादव अपना दम दिखाएंगी।

::: नंबर गेम :::

08 शीर्ष टीमें इस टूर्नामेंट में खेल रही हैं

31 कुल मैच टूर्नामेंट में चार शहरों में खेले जाएंगे

23 जुलाई को खेला जाएगा टूर्नामेंट का फाइनल

11वां संस्करण है यह महिला विश्व कप का। इसकी शुरुआत 1973 में हुई थी

05वां विश्व कप होगा यह भारतीय कप्तान मिताली का और चौथा झूलन गोस्वामी का

54 कुल मैच भारत ने विश्व कप में खेले हैं, जिसमें 28 जीते, 24 हारे, एक टाई व एक बेनतीजा रहा

25 पिछले वनडे मैचों में से भारत ने 20 जीते और पांच हारे हैं

03 बार इस टूर्नामेंट की मेजबानी कर रहा है इंग्लैंड। इस मामले में उसने भारत के सर्वाधिक (तीन बार) रिकॉर्ड की बराबरी की।

44 साल में भारतीय टीम एक बार भी खिताब नहीं जीत पाई है। उसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2005 में फाइनल में जगह बनाना रहा, जहां वह ऑस्ट्रेलिया से 98 रन से हार गई थी

06 सर्वाधिक बार विश्व चैंपियन बनी है ऑस्ट्रेलिया की टीम, जबकि तीन बार उपविजेता। इंग्लैंड ने तीन बार यह खिताब जीता है और न्यूजीलैंड ने एक बार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here