बयानबाजी से नाराज नीतीश ने लगाई प्रवक्ताओं की क्लास, लालू ने भी दी नसीहत

0
442

पटना । राजद और जदयू में बढ़ती बयानबाजी से नाराज सीएम नीतीश कुमार ने आज जदयू प्रवक्ताओं की क्लास लगाई और कहा कि महागठबंधन और राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बेवजह की बयानबाजी ना करें। नीतीश कुमार ने प्रवक्ताओं को संयम बरतने की सलाह दी।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवारों के नाम पर समर्थन देने के मुद्दे पर जदयू और राजद में तनातनी चल रही है।

जहां एक ओर जदयू ने एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन देने पर मुहर लगाई है, वहीं राजद ने विपक्षी दलों की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार को समर्थन देने की बात कही है। दोनों दल इस मुद्दे पर अब आमने सामने हैं और दोनों दल के नेताओं-प्रवक्ताओं में इसे लेकर बयानबाजी जारी है।

एेेसे में नीतीश ने जदयू प्रवक्ताओं को महागठबंधन के खिलाफ किसी भी तरह का बयान देने से परहेज करने की बात कही है, तो वहीं राजद ने भी अपने प्रवक्ताओं को संयम बरतने की सलाह दी है।

इससे पहले सोमवार को मची बयानबाजी की जंग के बीच जदयू ने राजद अध्यक्ष लालू यादव से अपने बड़बोले नेता भाई वीरेंद्र और रघुवंश प्रसाद सिंह को पद से हटाने की मांग की थी, लेकिन लालू ने इन दोनों नेताओं को छोड़कर अपने एक प्रवक्ता अशोक कुमार सिन्हा पर कार्रवाई करते हुए उन्हें पद से हटा दिया है।

राजद प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने लेटर जारी करते हुए कहा कि पार्टी के नियमों का पालन नहीं करने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की गई है। अशोक कुमार सिन्हा को पार्टी प्रवक्ता पद के हटाने के मामले को सरकार के खिलाफ बयानबाजी से जोड़कर देखा जा रहा है।

इसके बाद सोमवार को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने विधायक भाई वीरेंद्र को भी तबल किया था और सोमवार शाम को भाई वीरेंद्र ने लालू प्रसाद के आवास जाकर उनसे मुलाकात भी की थी, लेकिन उन्हें पद से हटाने या एेसी कोई बात नजर नहीं आई।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस के विधायक हुए बगावती, अध्यक्ष ने कहा-निराधार बात

कहा जा रहा था कि नीतीश सरकार और जदयू के खिलाफ बयानबाजी को लेकर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद नाराज है और इसी संबंध में उन्होंने विधायक भाई वीरेंद्र को तलब किया था, हालांकि मुलाकात के बाद भाई वीरेंद्र ने इस बात से इंकार किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.