सौरव गांगुली ने विराट कोहली-अनिल कुंबले विवाद पर अपने बयान से चौंकाया! रवि शास्त्री के बारे में यह कहा…

0
372

कोलकाता: टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले के बीच मतभेद को लेकर खबरों का दौर अब भी जारी है, जबकि कुंबले को पद छोड़े हुए कई दिन हो गए हैं. ताजा बयान अनिल कुंबले की कोच के पद पर ताजपोशी करने वाली बीसीसीआई की क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्य सौरव गांगुली का आया है. टीम इंडिया के सफलतम कप्तानों में से एक गांगुली ने टीम इंडिया के पूर्व डायरेक्टर रवि शास्त्री के कोच पद के लिए आवेदन करने पर भी टिप्पणी की है. आइए जानते हैं कि गांगुली ने विराट-कुंबले विवाद और शास्त्री को लेकर क्या कहा…

सौरव गांगुली के बयान ने सबको इसलिए सकते में डाल दिया है क्योंकि माना जा रहा था कि क्रिकेट सलाहकार समिति जिसमें गांगुली के अलावा सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण भी शामिल हैं, उसने विराट कोहली और अनिल कुंबले से बात करके विवाद को सुलझाने की कोशिश की थी. हालांकि अब गांगुली के बयान से ऐसा लगता है कि इस विवाद का हल निकालने में उनकी भूमिका नहीं रही है.

एक तरह से बोर्ड को लिया आड़े हाथों…
टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली ने मंगलवार को कहा कि पूर्व कोच अनिल कुंबले और कप्तान विराट कोहली के बीच मतभदों को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) सही तरीके से सुलझाने में नाकाम रहा. उन्होंने यह भी कहा कि जिसे यह जिम्मेदारी दी गई थी, उसने अपना काम सही ढंग से नहीं किया.’

क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) के सदस्य गांगुली ने कहा, ‘अनिल कुंबले और विराट कोहली के बीच के विवाद को और बेहतर तरीके से सुलझाया जा सकता था. जिस पर भी यह जिम्मेदारी थी उसे दोनों के बीच और बेहतर तरीके से विवाद को सुलझाना चाहिए था.’

वास्तव में क्रिकेट सलाहकार समिति ने ही वीटो का इस्तेमाल करते हुए कोच अनिल कुंबले की नियुक्ति की थी. उस समय भी विराट कोहली कुंबले के पक्ष में नहीं थे. उस समय सौरव गांगुली और रवि शास्त्री में काफी कहासुनी हुई थी. शास्त्री ने मीडिया में गांगुली पर कई टिप्पणियां की थीं. फिर गांगुली ने भी जवाब दिया था.

शास्त्री के आवेदन पर कहा…
अनिल कुंबले के इस्तीफे के बाद अब एक बार फिर रवि शास्त्री ने कोच पद के लिए आवेदन किया है. अब देखने वाली बात होगी कि सौरव गांगुली किसी दबाव में आते हैं या नहीं.

जब सौरव गांगुली से शास्त्री के नामांकन की खबर के बारे में पूछा गया , तो गांगुली ने कहा, ‘हर किसी को दावेदारी पेश करने का अधिकार है. हम देखेंगे. मैं भी आवेदन कर सकता था, अगर मैं प्रशासक नहीं होता.’

गौरतलब है कि पिछली बार शास्त्री कोच पद की दौड़ में सबसे आगे चल रहे थे, लेकिन सचिन, गांगुली और लक्ष्मण ने अनिल कुंबले को चुन लिया था. बल्कि यूं कहें कि उन्होंने ही कुंबले से इसके लिए आवेदन करने को कहा था और बाद में कुंबले को ही कोच चुन लिया था. अब देखना होगा कि शास्त्री और गांगुली की टसल एक बार फिर दिखती है या कप्तान विराट की मांग के आगे क्रिकेट सलाहकार समिति घुटने टेक देगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here