एसपी राज में अपर्णा यादव के एनजीओ को मिला उत्तर प्रदेश गोशाला ग्रांट का 86.4 प्रतिशत हिस्सा

0
229

उत्तर प्रदेश में निजाम बदलने से पहले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री काल में उत्तर प्रदेश गोसेवा आयोग के द्वारा गोशाला और गोरक्षा संगठनों को दिए जाने वाले कुल आर्थिक अनुदान का 86.4 प्रतिशत हिस्सा सीएम के भाई की पत्नी तथा मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव को दिया गया। समाजवादी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के जीव आचार्य एनजीओ को उत्तर प्रदेश गौसेवा आयोग के द्वारा दिए जाने वाले अनुदान का 86.4 प्रतिशत हिस्सा दिया गया। यह एनजीओ राजधानी लखनऊ में अमौसी के निकट कान्हा उपवन गौशाला को चलाता है, जिसका मालिकाना हक लखनऊ नगर निगम के पास है। यह जानकारी गोसेवा आयोग के पीआईओ संजय यादव के द्वारा दिए गए एक आरटीआई के जवाब से सामने आई। सूचना के अनुसार 2012 से 2017 तक के पांच साल के दौरान आयोग ने 9 करोड़ 66 लाख रुपए का कुल अनुदान जारी किया, जिसमें से 8 करोड़ 35 लाख रुपए तो केवल अपर्णा यादव के जीव आश्रय एनजीओ को ही दिया गया। वित्त वर्ष 2012-13, 2013-14, 2014-15 के दौरान जीव आश्रय को क्रमश: 50 लाख रुपए, 1 करोड़ 25 लाख रुपए और 1 करोड़ 41 लाख रुपए का अनुदान दिया गया। इसके बाद 2015-16 में अपर्णा यादव के एनजीओ को 2 करोड़ 58 लाख रुपए तथा 2016-17 में 2 करोड़ 55 लाख रुपए का ग्रांट दिया गया। वर्तमान सत्र 2017-18 में आयोग की तरफ से विभिन्न गौशालाओं को 1 करोड़ 5 लाख रुपए दिए गए, लेकिन जीव आश्रय को कुछ नहीं मिला। ललितपुर के दयोदया गोशाला को सबसे अधिक 63 लाख रुपए मिले। आरटीआई ऐक्टिविस्ट नूतन ठाकुर के अनुसार, ‘समाजवादी सरकार के शासन काल में 80 प्रतिशत से अधिक का आर्थिक अनुदान एक विशेष एनजीओ को दिया गया। यह बड़े पैमाने पर हुए राजनीतिक पक्षपात और भाई-भतीजावाद का उदाहरण ही है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here