सांप्रदायिक हिंसा पर गृह मंत्रालय ने प. बंगाल सरकार से रिपोर्ट मांगी

0
365

नयी दिल्ली पांच जुलाई भाषा पश्चिम बंगाल के 24 परगना जिले में सोमवार को भड़की सांप्रदायिक हिंसा पर संग्यान लेते हुये केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने आज राज्य सरकार से हिंसा से उपजे हालात पर विस्तृत रिपोर्ट तलब की है। इस बीच गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल केसरीनाथ त्र्ािपाठी से टेलीफोन पर बात कर स्थिति की जानकारी ली। सिंह ने इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री और राज्यपाल के बीच उपजे मनमुटाव को आपसी बातचीत से दूर करने का दोनों से अनुरोध किया है। समझाा जाता है कि बनर्जी और त्र्ािपाठी ने सिंह को बातचीत के दौरान अपने अपने पक्ष से अवगत कराया। इस मामले में बनर्जी ने त्र्ािपाठी को आरोपों के घेरे में लेते हुये उन पर राज्यपाल पद की मर्यादा का उल्लंघन करने का आरोप लगाया। मुख्यमंत्री ने यहां तक कह दिया कि त्र्ािपाठी भाजपा के ब्लॉक अध्यक्ष की तरह बर्ताव कर रहे हैं। हालांकि त्र्ािपाठी ने बनर्जी के इस रवैये और भाषा पर आश्चर्य व्यक्त किया है। इससे पहले मंत्रालय ने राज्य सरकार को भेजे लिखित संदेश में राज्य के हिंसा प्रभावित इलाकों में कानून व्यवस्था की मौजूदा स्थिति और इससे निपटने के लिये किये गये उपायों पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। बातचीत के दौरान सिंह ने बनर्जी और त्र्ािपाठी से पृथक गोरखालैंड की मांग को लेकर दार्जििलंग में चल रहे आंदोलन में बंद और हिंसा की स्थिति पर भी चर्चा की। फेसबुक पर सोमवार को एक विवादित टिप्पणी को लेकर 24 परगना जिले के बदूरिया और बसीरहाट कस्बों में हिंसक वारदातें हुईं। इसमें इलाके की कई दुकानों और मकानों को आग के हवाले कर दिया गया। हिंसा का असर बदूरिया के अलावा तेंतूलिया, गोलाबारी कस्बों में भी हुआ है। सरकार ने हिंसा से उपजे हालात पर काबू पाने के लिये हिंसा प्रभावित इलाकों में धारा 144 लगाते हुये इंटरनेट सेवायें एहतियातन बंद कर दी हैं। साथ ही फेसबुक पर विवादित पोस्ट चस्पा करने वाले युवक को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इस बीच हिंसा पर काबू पाने में राज्य पुलिस की मदद के लिये मंगलवार को गृह मंत्रालय ने अर्धसैनिक बल की कुछ टुकड़ियां प्रभावित इलाकों में भेज दी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here