डोकलाम: भारत का रुख साफ, केवल कूटनीति से निकलेगा हल

0
342

सिक्किम गतिरोध पर चीन के आगे नहीं झुकने की बात साफ तौर पर कहते हुए भारत ने कहा है कि कूटनीतिक बातचीत के परिणामस्वरूप ही सिक्किम-भूटान-तिब्बत तिराहे के नजदीक पैदा हुए सीमा-गतिरोध का हल निकलेगा। बुधवार को रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भाम्रे ने कहा, ‘यह मुद्दा या संकट कूटनीतिक स्तर पर हल किया जाना चाहिए। यह कूटनीतिक रूप से हल हो सकता है, जैसा हम चाहते हैं।’ भाम्रे ने कहा, ‘चीन के सैनिकों को वहीं रहना चाहिए जहां वे पहले थे। वे भूटान के इलाके में घुस आए हैं। उन्हें भूटान के इलाके में नहीं आना चाहिए। यह हमारी सुरक्षा का सवाल है और यही हमारा स्टैंड है।’ भाम्रे ने भूटान द्वारा चीन पर लगाए गए आरोप का भी जिक्र किया जिसमें उसने कहा था कि चीन ने उसके (भूटान) इलाके में सड़क बनाकर मौजूदा स्थिति को बदलने की एकतरफा कोशिश की। भाम्रे ने कहा, ‘समझें कि भूटान क्या कह रहा है। यह विवाद केवल कूटनीतिक स्तर पर हल हो सकता है। हम बैठकर सभी समस्याओं को दूर कर सकते हैं।’ भाम्रे का यह बयान चीनी राजदूत लू झाओहुई के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने दोनों देशों के बीच पैदा हुई ‘गंभीर’ स्थिति के चलते भारत को ‘बिना किसी शर्त’ के अपने सैनिकों को वापस बुलाने की बात कही थी। मौजूदा हालात पर एक इंटरव्यू में चीन के राजदूत ने कहा था, ‘स्थिति बहुत ही गंभीर है और इससे मैं बहुत ज्यादा चिंतित हूं। पहली बार भारतीय सैनिकों ने सीमा को पार कर चीन के इलाके में प्रवेश किया है जिससे दोनों देशों के सेनाओं के बीच तनातनी बढ़ गई है। 19 दिन बीत जाने के बाद भी हालात सामान्य नहीं हुए हैं।’ लू ने यह भी कहा कि भारत को सीमा को लेकर चीन और भूटान के बीच चल रही बातचीत में दखल देने की कोई जरूरत नहीं है। बता दें कि डोकलाम में चीन द्वारा सड़क बनाने की कोशिश के बाद भारत और चीन के सैनिकों के बीच कई दिनों से तनातनी चल रही है। डोका ला उस इलाके का भारतीय नाम है जिसे भूटान डोकलाम कहता है। चीन का दावा है कि यह उसके डोंगलांग इलाके का हिस्सा है। विवाद को हल करने के लिए चीन और भूटान के बीच बातचीत चल रही है। भूटान के चीन के साथ राजनयिक रिश्ते नहीं है इसलिए भारत ही उसे सैन्य के साथ-साथ राजनयिक समर्थन देता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here