पीएम मोदी ने हाइफा में भारतीय शहीदों को श्रद्धांजलि दी

0
272

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इजरायल की तीन दिवसीय यात्रा के आखिरी दिन हाइफा पहुंचे। उन्होंने पहले विश्वयुद्ध के दौरान शहीद हुए भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। ध्यान रहे कि 1918 में भारतीय जवानों ने ही इजरायल के हाइफा शहर को जर्मन और तुर्की सेना से मुक्त कराया था। इस लड़ाई में 44 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ही इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भी हाइफा पहुंचे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद नेतन्याहू ने भी शहीद भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि दी। 1918 में शहीद हुए 44 भारतीय जवानों का स्मारक हाइफा में ही बनाया गया है। इस लड़ाई में हैदराबाद, मैसूर और जोधपुर के जवान शहीद हुए थे। हाइफा शहर का इजरायल के इतिहास में खासा स्थान रहा है। माना जाता है कि इजरायल की आजादी का रास्ता हाइफा की लड़ाई से ही खुला था जब भारतीय सैनिकों ने सिर्फ भाले, तलवारों और घोड़ों के सहारे ही जर्मनी-तुर्की की मशीनगन से लैस सेना को धूल चटा दी थी।
बता दें कि यह लड़ाई 23 सितंबर 1918 को हुई थी। शहर को आजाद कराने में अहम भूमिका के लिए मेजर दलपत सिंह को ‘हीरो ऑफ हाइफा ‘ के तौर पर जाना जाता है। उन्हें उनकी बहादुरी के लिए मिलिटरी क्रॉस से सम्मानित किया गया। हाइफा नगरपालिका ने भारतीय सैनिकों के बलिदान को अमर करने के लिए वर्ष 2012 में उनकी बहादुरी के किस्सों को स्कूल के पाठ्यक्रम में शामिल करने का फैसला किया था। करीब 402 सालों तक तुर्कों की गुलामी के बाद शहर को आजाद कराने में भारतीय सेना की भूमिका को याद करते हुए नगरपालिका ने हर साल एक समारोह के आयोजन का भी फैसला किया था। इजरायल में आज भी इस दिन को हाइफा दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह पहली बार है जब किसी भारतीय प्रधानमंत्री ने इजरायल का दौरा किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here