CBI छापेमारी पर बिहार में सियासत तेज, गिरिराज बोलें- चुप्पी तोड़ें सीएम नीतीश

0
280

लालू यादव के ठिकानों पर सीबीआई छापे के बाद बिहार की सियासत में सरगर्मी बढ़ गई है। प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा ने सीएम नीतीश को चुप्पी तोड़ने की सलाह देते हुए तेजस्वी यादव को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग की है। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि नीतीश कुमार इस मामले में मौनी बाबा बने हुए हैं और उन्हें अपना मौन तोड़ना होगा। गिरिराज सिंह ने आगे कहा कि सच लोगों के सामने आना ही चाहिए। इसके साथ ही अब नीतीश कुमार को इस मामले पर बोलना चाहिए की क्या वह सुशासन चाहते हैं या भ्रष्टाचार का समर्थन करते हैं या फिर इसका विरोध करते हैं। वह सुशासन और जीरो टॉलरेंस की बात करते हैं। कानून अपना काम कर रहा है और सीबीआई जांच में जुटी है। भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने मांग की है कि लालू के बेटों को कैबिनेट से हटा दिया जाए। उन्होंने नीतीश कुमार की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने साल 2008 में सबसे पहले इस घोटाला का खुलासा किया था। राजद के प्रदेश अध्‍यक्ष रामचन्द्र पूर्वे ने कहा कि लालू सिर्फ राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं है। वे देश भर की अकलियतों, शोषितों-पीड़ितों की आवाज भी हैं। जब उन्होंने ‘भाजपा भगाओ, देश बचाओ’ रैली के आयोजन की घोषणा की, भाजपा की नींद हराम हो गयी। भाजपा को लग रहा है कि इस रैली में करोड़ों लोग जुटेंगे और भाजपा की पोल खुल जाएगी, तो आरएसएस-भाजपा ने लालू यादव पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया। लेकिन शायद उन्‍हें नहीं मालूम कि लालू व्यक्ति नहीं नीति और सिद्धांत हैं। भाजपा के खिलाफ यह रैली होकर रहेगी चाहे जो भी परिस्थिति उत्पन्न हो। पूछे जाने पर कि यदि लालू की गिरफ्तारी हो गयी तो नेतृत्व कौन करेगा, रामचन्द्र पूर्वे ने कहा कि राजद सामूहिक रूप से इस रैली का नेतृत्व करेगा। राजद नेता व पूर्व सांसद शिवानंद तिवारी ने कहा कि भाजपा भगाओ रैली है की वजह से लालू के यहां छापेमारी चल रही है। जिस मामले में छापेमारी हुई है वह रेल विभाग से संबंधित है। आठ-नौ वर्ष पहले हमलोगों ने इस मामले को उजागर किया था। बाद में तत्कालीन प्रधानमंत्री को ज्ञापन देकर इस मामले की जाँच कराने की माँग की गई थी। लेकिन मामला जांच के लायक नहीं पाया गया था। तीन वर्ष से दिल्ली में मोदी सरकार है। लेकिन आज के पहले इन तीन वर्षों में मोदी सरकार ने इस मामले को कार्रवाई के लायक नहीं माना। अब जब लालू यादव मोदी सरकार को हटाने की चुनौती दे रहे हैं। लेकिन जो लोग लालू यादव को जानते हैं उन्हें पता है कि सीबीआई के ज़रिए डरा-धमका ओर लालू यादव के मुँह पर जाब लगाना नामुमकिन है।बल्कि इस कार्रवाई से लालू यादव और उनके समर्थकों का संकल्प और मज़बूत होगा। राजद विधायक व मुख्‍य प्रवक्‍ता शक्ति सिंह यादव ने सीबीआइ की छापेमारी को पूर्वाग्रह से प्रेरित होकर कार्रवाई बताया है। कहा कि केन्द्रीय जांच एजेंसी विरोधियों को फंसाने की एजेंसी के रूप में काम कर रही है। बीजेपी-आरएसएस के इशारे पर केन्द्रीय एजेंसियां नाच रही हैं। राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि सीबीआई प्रतिशोध की भावना से काम कर रही है। बंगाल, तमिलनाडू, हिमांचल प्रदेश में भी इसी भावना से सीबीआई के छापे पड़े थे। लालू यादव को सीबीआई की कार्रवाई से परेशान किया जा रहा है। राजद इसका डटकर मुकाबला करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here