CBI छापे से राजद नेता नाराज़, कहा-लालू की रैली से डर गयी है केंद्र सरकार

0
271

राजद सुप्रीमो लालू यादव और उनके परिवार पर सीबीआइ ने अपना शिकंजा कसते हुए आज उनकी पत्नी और उनके पुत्रों के खिलाफ फर्जीवाड़े का केस दर्ज किया है और उनके बारह ठिकानों पर आज सुबह से छापेमारी कर रही है। इस मामले का पता चलते ही राजद खेमे में काफी आक्रोश देखा जा रहा है। राजद नेता और कार्यकर्ता आज सुबह से ही सीबीआइ की छापेमारी पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने कहा कि हमने जो भाजपा भगाओ, देश बचाओ रैली का आह्वान किया है, ये लोग उससे डर गए हैं। लालू का राजनीतिक कद बड़ा है और इस तरह की कार्रवाई से उनपर कोई फर्क नहीं पड़ेगा, वो गरीबों के मसीहा हैं। पूर्वे ने कहा कि बिहार में महागठबंधन मजबूत है और इस तरह की कार्रवाई से महागठबंधन की एकता पर कोई असर पड़ने वाला नहीं है। गठबंधन एेसे ही चलता रहेगा और जिसे जो करना हो कर ले राजद की विशाल रैली पटना में 27 अगस्त को होने वाली हैऔर जरूर होगी। वहीँ पार्टी प्रवक्ता शक्ति यादव ने कहा कि यह सब केंद्र सरकार की साजिश है। सीबीआइ, विरोधी फंसाओ एजेंसी है। इस छापे से बिहार की जनता मर्माहत है। उन्होंने कहा कि लालू की सारी संपत्ति की जानकारी पब्लिक डोमेन में है। दरअसल हम भाजपा भगाओ रैली कर रहे, इसीलिए केंद्र सरकार हमें फंसा रही। लालू यादव के खिलाफ साजिश में इन्हें कामयाबी नहीं मिलेगी। लालू को बिहार की जनता जानती है। राजद नेता मुंद्रिका यादव ने कहा कि लालू गरीबो के नेता हैं और केंद्र की एनडीए सरकार सीबीआइ का इस्तेमाल करके लालू को परेशान कर रही है। लालू यादव कभी किसी से डरते नहीं है, ये भाजपा का किया धरा है और हम इससे डरने वाले नहीं। हम अपनी रैली से इसका जवाब देंगे। आज लालू को फंसाया गया है, इसी तरह अंबेदकर और कर्पूरी जैसे नेताओं को भी परेशान किया गया था। राजद प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि ‘मुझे लगता है कि आज का दिन इतिहास में काला दिन के नाम से जाना जाएगा। ये (केंद्र) आईटी, ईडी, सीबीआई के जरिए अपने विरोधियों के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। भाजपा को इन एजेंसियों का प्रयोग करने में महारत हासिल है। ये एजेंसिया भाजपा की नई सहयोगी बन गई हैं। वे इनके जरिए हममें भय पैदा करना चाहते हैं, हम इससे डरने वाले नहीं हैं। हम इसके खिलाफ राजनैतिक और कानूनी लड़ाई लड़ेंगे और जीत हासिल करेंगे।’ मनोज झा ने कहा कि इससे लालू और शक्तिशाली बनकर उभरेंगे, लालू ने शुरू से ही सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई लड़ी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here