आईटी सेक्टर में छंटनी के बीच आनंद महिंद्रा ने मांगी सार्वजनिक मांफी, जानिए क्यों

0
90

नई दिल्ली। महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने आईटी सेवा की ईकाई टेक महिंद्रा में एक कर्मचारी को नौकरी से त्यागपत्र देने के तरीके पर सार्वजनिक तौर पर माफी मांगी है। अमेरिका में संरक्षणवाद और आईटी बिजनेस के बदले परिदृश्य में भारतीय टेक इंजीनियर्स की नौकरी पर खतरे की तलवार लटक रही है।

कई आईटी कंपनियों से लोगों को जबरन निकाला जा रहा है। उन्हें धमकी दी जा रही है कि वे या तो खुद इस्तीफा दे दें या कंपनी उन्हें निकाल देगी। इसी तरह का मामला टेक महिंद्रा में सामने आया है, जिसका ऑडियो वायरल होने के बाद टेक महिंद्रा के शीर्ष अधिकारियों ने मांफी मांगी है।

यह ऑडियो कर्मचारी और एचआर एक्जिक्यूटिव के बीच हुई बातचीत का है। इंटरनेट पर वायरल हो चुके इस ऑडियो में कंपनी के एचआर अधिकारी ने उस कर्मचारी को धमकी देते हुए कहा है कि इस्तीफा दो वर्ना बाहर निकाल दिए जाओगे।

उसने कर्मचारी से आगे कहा कि यह कंपनी का फैसला है। यदि तुमने अपने नियुक्ति पत्र को पढ़ा होगा तो मालूम होना चाहिए कि अपने कर्मचारियों को किसी भी वक्त मूल वेतन देकर इस्तीफा देने के लिए कहने का अधिकार कंपनी के पास सुरक्षित है।

उसने आगे कहा कि मैं तुम्हे आज शाम तक कंपनी छोड़ने के लिए कह रहा हूं, जो तुम्हारी नियुक्ति की उन शर्तों के अनुसार है, जिन्हें तुमने टेक महिंद्रा में नियुक्ति के समय स्वीकार की थीं। नियुक्ति पत्र में जब यह स्पष्टतौर पर लिखा हुआ था तो तुमने उस पर हस्ताक्षर क्यों क्या था?

इस मामले के सामने आने के बाद आनंद महिंद्रा ने उस पूर्व कर्मचारी के साथ हुए बर्ताव के लिए खेद जताया है। महिंद्रा ने कहा कि व्यक्ति की गरिमा का सम्मान करना कंपनी की मूल अवधारणा है। महिंद्रा ने आज अपने एक ट्वीट में कहा कि मैं व्यक्तिगत तौर पर खेद जताना चाहता हूं। हमारी मूल अवधारणा व्यक्ति की गरिमा को संरक्षित करना है। हम यह तय करेंगे कि भविष्य में ऐसी घटना घटित न हो।
नई दिल्ली। महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने आईटी सेवा की ईकाई टेक महिंद्रा में एक कर्मचारी को नौकरी से त्यागपत्र देने के तरीके पर सार्वजनिक तौर पर माफी मांगी है। अमेरिका में संरक्षणवाद और आईटी बिजनेस के बदले परिदृश्य में भारतीय टेक इंजीनियर्स की नौकरी पर खतरे की तलवार लटक रही है। कई आईटी कंपनियों से लोगों को जबरन निकाला जा रहा है। उन्हें धमकी दी जा रही है कि वे या तो खुद इस्तीफा दे दें या कंपनी उन्हें निकाल देगी। इसी तरह का मामला टेक महिंद्रा में सामने आया है, जिसका ऑडियो वायरल होने के बाद टेक महिंद्रा के शीर्ष अधिकारियों ने मांफी मांगी है। यह ऑडियो कर्मचारी और एचआर एक्जिक्यूटिव के बीच हुई बातचीत का है। इंटरनेट पर वायरल हो चुके इस ऑडियो में कंपनी के एचआर अधिकारी ने उस कर्मचारी को धमकी देते हुए कहा है कि इस्तीफा दो वर्ना बाहर निकाल दिए जाओगे। उसने कर्मचारी से आगे कहा कि यह कंपनी का फैसला है। यदि तुमने अपने नियुक्ति पत्र को पढ़ा होगा तो मालूम होना चाहिए कि अपने कर्मचारियों को किसी भी वक्त मूल वेतन देकर इस्तीफा देने के लिए कहने का अधिकार कंपनी के पास सुरक्षित है। उसने आगे कहा कि मैं तुम्हे आज शाम तक कंपनी छोड़ने के लिए कह रहा हूं, जो तुम्हारी नियुक्ति की उन शर्तों के अनुसार है, जिन्हें तुमने टेक महिंद्रा में नियुक्ति के समय स्वीकार की थीं। नियुक्ति पत्र में जब यह स्पष्टतौर पर लिखा हुआ था तो तुमने उस पर हस्ताक्षर क्यों क्या था? इस मामले के सामने आने के बाद आनंद महिंद्रा ने उस पूर्व कर्मचारी के साथ हुए बर्ताव के लिए खेद जताया है। महिंद्रा ने कहा कि व्यक्ति की गरिमा का सम्मान करना कंपनी की मूल अवधारणा है। महिंद्रा ने आज अपने एक ट्वीट में कहा कि मैं व्यक्तिगत तौर पर खेद जताना चाहता हूं। हमारी मूल अवधारणा व्यक्ति की गरिमा को संरक्षित करना है। हम यह तय करेंगे कि भविष्य में ऐसी घटना घटित न हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here