नोएडा सेक्टर 78 की पॉश सोसायटी में पत्थरबाजी, मेड को बंधक बनाने का आरोप

0
568

राजधानी से सटे नोएडा सेक्टर 78 की पॉश सोसायटी महागुन मॉडर्न में बुधवार सुबह जोरदार हंगामा हुआ। सोसाइटी में काम करने वाली एक मेड को पीटने और बंधक बनाने के आरोप के बाद उसके परिजनों और कुछ अन्य साथियों ने पत्थरबाजी कर दी। सोसाइटी के लोगों और गार्ड्स ने भी जवाब में पत्थर फेंकने शुरू कर दिए। इस घटना से इलाके में काफी देर तक अफरातफरी का माहौल बना रहा। बाद में मौके पर पहुंची पुलिस ने तोड़फोड़ और पथराव कर रहे लोगों को हल्का बल प्रयोग कर भगाया। यह विवाद सोसायटी में काम करने वाली एक मेड को लेकर हुआ। परिजनों का आरोप है कि मेड को दो दिन से घर नहीं जाने दिया जा रहा था और बुधवार सुबह वह बेहोशी की हालत में मिली। दूसरी ओर सोसायटी का आरोप था कि मेड को दस हजार रुपये चुराते रंगे हाथ पकड़ा गया था, जिसके डर से वह घर नहीं लौटी। इस मामले में नौकरानी ने अपनी मालकिन सहित कई लोगों को नामित करते हुए थाना सेक्टर-49 में मुकदमा दर्ज कराया है। नगर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह ने बताया कि महागुन अपार्टमेंट में रहने वाली स्कूल संचालिका श्रीमती हर्षिता सेठी के घर पर जोरा बीबी नामक नौकरानी काम करती है। बीती रात को हर्षिता सेठी ने नौकरानी पर आरोप लगाया कि उसने घर पर रखी नकदी चोरी कर ली है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि नौकरानी जोरा का आरोप है कि उसकी मालकिन ने उसे अन्य लोगों की सहायता से उसे पूरी रात घर में बंधक बनाकर रखा। उन्होंने बताया कि नौकरानी के पति बाबू खान ने बीती रात को इस बात की सूचना पुलिस को दी थी। जब पुलिस सेठी के घर पर गई तो उन्होंने बताया कि नौकरानी वहां पर नहीं है। उन्होंने कहा कि नौकरानी सुबह बेसुध हालत में सोसायटी में पड़ी मिली। इस बात की खबर फैलते ही सोसायटी में काम करने वाले महिला-पुरुष कामगारों ने सैकड़ों की संख्या में सोसायटी पर लाठी-डंडे से लैस होकर धावा बोल दिया। इन लोगों ने हर्षिता सेठी के घर पर भी धावा बोला और वहां पर जमकर तोड़फोड़ और पथराव किया। आस-पास के लोगों ने किसी तरह से सेठी परिवार को दूसरे दरवाजे से बाहर निकाला। घटना की सूचना पाकर मौके पर भारी पुलिस बल पहुंचा।
पुलिस ने तोड़फोड़ और पथराव कर रहे लोगों को हल्का बल प्रयोग कर भगाया। महागुन सोसायटी में रहने वाले देवेंद्र राठौर ने बताया कि यहां पर घरेलू काम करने वाले ज्यादातर नौकर-नौकरानी बांग्लादेशी हैं। उन्होंने कहा कि सोसायटी के लोगों ने इस घटना के बाद निर्णय किया है कि वे अब सोसायटी के अंदर घरेलू नौकरों का प्रवेश बंद कर देंगे। इस मामले में महागुन सोसायटी की तरफ से भी सैकड़ों लोगों के खिलाफ तोड़फोड़ और बलवा करने का मामला दर्ज कराया गया है।
मकान मालकिन हर्षिता सेठी ने पूरे मामले पर बात करते हुए कहा, ‘हमारे यहां काम करने वाली बांग्लादेशी मेड पर हमें चोरी का शक था। सोमवार को हमने उससे इस बारे में पूछा और कहा कि हमारे पास उसका एक विडियो है, जिसमें वह चोरी करती दिख रही है। घबराकर उसने 10 हजार रुपये चुराने की बात कुबूल की और पैसे उसकी तनख्वाह से काट लेने को कहा, लेकिन वह 12 और घरों में काम करती है इसलिए हमने सोसायटी को बताना जरूरी समझा।’ उन्होंने कहा, ‘उसे डर था कि बात खुल गई तो नौकरी चली जाएगी, जब हम शिकायत करने गए तो वह भाग गई और मोबाइल भी मेरे घर छोड़ दिया। रात को उसका पति यह कहने आया कि मेड घर नहीं लौटी और उसने मोबाइल मांगा। मुझे शक हुआ कि उसे मोबाइल के बारे में कैसे पता चला। थोड़ी देर बाद वह पुलिस के साथ लौटा और हमने पूरी बात बताई। पुलिसवाले ने भी उसे डांटा और हमें परेशान करने से मना किया। इसके बाद सुबह पथराव और बवाल शुरू हो गया।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.