यूपी विधानसभा में विस्फोटक: योगी को आतंकी साजिश की आशंका, कहा- NIA करे जांच

0
371

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा के अंदर विस्फोटक मिलने की घटना के पीछे आतंकी साजिश की आशंका जताई है। उन्होंने कहा है कि इस घटना की NIA जांच होनी चाहिए। विधानसभा में इस मुद्दे पर सदन को जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि बुधवार को साफ-सफाई के दौरान सदन के अंदर 150 ग्राम PETN पाया गया था जो बेहद खतरनाक विस्फोटक है। योगी ने बताया कि 500 ग्राम PETN पूरे विधानसभा भवन को उड़ाया जा सकता है। घटना पर सख्त रुख अपनाते हुए सीएम ने कहा कि किसी को ‘खुश’ करने के लिए सुरक्षा से खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस बीच UAPA की धारा -16, 18, 20 और IPC की धारा 120 (B) और 121 (A) और एक्सप्लोसिव ऐक्ट के तहत अज्ञात के खिलाफ मुक़दमा दर्ज कर लिया गया है।
‘500 ग्राम पूरा भवन उड़ाने के लिए काफी’
योगी ने सदन में कहा, ‘बुधवार को साफ-सफाई के लिए जब कर्मी आए, तब यह सामग्री मिली थी। यह एक खतकनाक विस्फोटक है। विस्फोटक की मात्रा कम थी, 150 ग्राम। इस पूरे भवन को उड़ाने के लिए 500 ग्राम PETN पर्याप्त है। आखिर कौन लोग उसे लेकर आए है, सवाल यह उठता है। अगर हम जनप्रतिनिधियों को कोई विशेषाधिकार दिया गया है कि तो क्या हम किसी को भी सुरक्षा से खिलवाड़ की छूट दे देंगे। हम लोग अब तक बाहर की सुरक्षा को लेकर चिंतित थे, पर आज अपनी सुरक्षा पर चर्चा कर रहे हैं।’
‘पहले दिन से थी सुरक्षा की चिंता’
योगी ने कहा, ‘जब मैं पहली बार इस सदन में आया था, तभी यह देख कर चिंतित था कि कोई भी फटॉग्रफी के लिए अंदर आ जाता था। यह खतरनाक प्रवृत्ति है। सुरक्षा कर्मियों का वेरिफिकेशन होना चाहिए। कोई भी व्यक्ति जब अंदर आए तो उसकी जांच होनी चाहिए। हमने कुछ व्यवस्थाएं बदलीं भी हैं। क्या हम किसी को खुश करने के लिए, किसी को तुष्ट करने के लिए इतनी छूट दे देंगे कि वह विधायकों की सुरक्षा से खिलवाड़ करे। इस संबंध में सुरक्षा के निर्देश जारी होने चाहिए।’
‘डॉग स्क्वॉड भी नहीं पता लगा पाया’
सीएम ने कहा कि इस विस्फोटक के बारे में सामान्य रूप से पता नहीं लगाया जा सकता है, जब तक कि फिजिकली चेक न किया जाए। उन्होंने कहा, ‘डॉग स्क्वॉड भी इसका पता नहीं लगा पाया क्योंकि उसमें कोई खुशबू या बदबू नहीं होती। यह एक खतरनाक आतंकी साजिश को अंजाम देने का हिस्सा है। मेरी अनुरोध होगा कि सभी कर्मी जो यहां काम करते हैं, उनका पुलिस वेरिफिकेशन हो जाए और NIA इसकी जांच करें। हम इस संबंध में अनुरोध करेंगे। यह प्रदेश के 22 करोड़ लोगों की भावनाओं से जुड़ा है। यह खिलावाड़ है सुरक्षा के साथ। जिसने भी यह काम किया है, उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here