जेडीयू ने रविवार को नीतीश के घर बुलाई विधायकों की बैठक

0
321

बिहार में महागठबंधन सरकार के भविष्य को लेकर बने अनिश्चितता के माहौल के बीच जेडीयू ने रविवार को मुख्यमंत्री आवास पर अपने विधायकों की बैठक बुलाई है। कहा जा रहा है कि इस बैठक में नीतीश कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं। दरअसल, मंगलवार को प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में जेडीयू की तरफ से आरजेडी को तेजस्वी पर फैसला लेने के लिए 4 दिन का जो अल्टिमेटम दिया गया था, वह शनिवार को खत्म हो रहा है। ऐसे में अब रविवार को जेडीयू की ओर से कोई ‘निर्णायक’ फैसला लिए जाने की बात कही जा रही है। अभी तक दोनों पार्टियों के नेता सिर्फ जुबानी जमाखर्च में लगे हुए हैं। तल्ख बयानबाजी का सिलसिला पिछले लगभग एक हफ्ते से चल रहा है। बयानबाजी इतनी तीखी हो चली है कि जेडीयू नेता यह तक कह चुके हैं कि आरजेडी अपने 80 विधायकों पर ज्यादा न इतराए, तो आरजेडी की तरफ से खुद पार्टी सुप्रीमो लालू प्रसाद ने दो टूक शब्दों में कह दिया कि तेजस्वी किसी हाल में इस्तीफा नहीं देंगे। वैसे दोनों दलों को इस बात का अहसास है कि हालात को इस तरह और लंबा नहीं खींचा जा सकता। खास तौर पर अपनी छवि को लेकर चिंतित नीतीश कुमार अब जल्द कोई फैसला कर लेना चाहते हैं। कहा जा रहा है कि चार दिन में तेजस्वी पर फैसला करने के जेडीयू के अल्टिमेटम पर आरजेडी ने वह गंभीरता नहीं दिखाई, जिसकी उम्मीद जेडीयू कर रही थी। किसी और नेता के बजाय जब खुद लालू ने सामने आकर तेजस्वी का खुलकर बचाव किया, तो यह मान लिया गया कि आरजेडी अपने स्टैंड से डिगने वाली नहीं है। इस बीच ऐसी खबरें भी आईं कि किसी बीच के फॉर्म्युले पर काम हो रहा है, लेकिन उसे लेकर भी कोई ठोस बात सामने नहीं आ सकी। एक तरफ लालू खुलकर तेजस्वी का बचाव कर रहे हैं, दूसरी तरफ नीतीश ने अभी तक इस मुद्दे पर सार्वजनिक तौर पर कुछ नहीं कहा है। नीतीश की यही चुप्पी आरजेडी को अखर रही है। शनिवार को भी जब मीडिया ने नीतीश से इस मसले पर बात करने की कोशिश की, तो वह बिना कुछ कहे निकल गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here