सरताज अजीज के पत्र के बिना ही PoK के युवक को इलाज के लिए वीजा

0
372

केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में रहने वाले 24 साल के युवक को वीजा देने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि इसके लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के सलाहकार सरताज अजीज के लेटर की कोई जरूरत नहीं है। PoK को भारत का अभिन्न अंग बताते हुए सुषमा ने कहा कि पाकिसतान ने वहां गैरकानूनी तरीके से कब्जा किया हुआ है। माना जा रहा है कि PoK के युवक को बिना लेटर वीजा देकर सुषमा ने मानवता को सर्वोपरि रखने का संदेश तो दिया ही, साथ ही पाकिस्तान को आईना दिखाने का काम भी किया है। गौरतलब है कि PoK में रहने वाला 24 साल का ओसामा अली इलाज के लिए भारत आना चाहता है, लेकिन उसको पाकिस्तान की ओर से इसकी इजाजत नहीं दी जा रही थी। ओसामा के लिवर में ट्यूमर है जिसका इलाज वह दिल्ली कराना चाहता है। इसके लिए तय प्रक्रिया के तहत सरताज अजीज को इस्लामाबाद में भारतीय हाई कमीशन को लेटर लिखकर देना था, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। इस बाधा के चलते ओसामा को वीजा नहीं मिल पा रहा था। ऐसे में सुषमा, ओसामा की मदद के लिए आगे आईं और बिना लेटर के ही उसे इलाज के लिए मेडिकल वीजा देने का ऐलान किया। दरअसल, सुषमा ने पिछले दिनों साफ किया था कि भारत में इलाज कराने के लिए मेडिकल वीजा चाहने वाले पाकिस्तानी नागरिक अगर सरताज अजीज की अनुशंसा के साथ आएंगे तो उन्हें तुरंत वीजा दे दिया जाएगा। लेकिन इस मामले में अजीज के पत्र के बिना ही सुषमा ने वीजा देना का फैसला किया है। बता दें कि हाल ही में सुषमा ने पाकिस्तान की कैंसर पीड़ित युवती फैजा तनवीर के मेडिकल वीजा मामले को लेकर भारत सरकार का स्टैंड स्पष्ट करते हुए दोहरे मापदंडों के लिए पाकिस्तान को खूब खरी-खोटी सुनाई थी। उन्होंने पाकिस्तान में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की मां अवंतिका जाधव को वीजा न देने के लिए पाकिस्तान की निंदा भी की थी। सुषमा ने लिखा था, ‘मैंने खुद निजी तौर पर सरताज अजीज को एक पत्र लिखा और अवंतिका जाधव को पाकिस्तान जाने का वीजा दिए जाने का आग्रह किया। इसके बावजूद अजीज ने मेरे पत्र प्राप्ति की सूचना देने का बुनियादी शिष्टाचार तक नहीं निभाया।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here