जीएसटी पर संसद रात में बुलायी, लेकिन किसान के मुद्दे पर हमें 10 मिनट भी नहीं बोलने दिया : राहुल गांधी

0
325

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज राजस्थान के जयपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए किसान हित के मुद्दे पर नरेंद्र मोदी सरकार पर जमकर प्रहार किया. उन्होंने किसानों से कहा कि आपके मन में जो दुख है और सिर्फ यहां के नहीं बल्कि पूरे हिंदुस्तान के हर किसान के दिल में दु:ख है, उसके बारे में हम लोकसभा में बोलना चाहते थे, बात करवाना चाहते थे, दो-तीन घंटे की बात नहीं करना चाहते थे. 10-15 मिनट हम किसान के बारे में बोलना चाहते थे. प्रधानमंत्री जी बैठे थे, मिनिस्टर बैठे थे, लेकिन हमें पार्टिलयामेंट में किसान की बात नहीं उठाने दिया गया. एक मिनट हमें नहीं बोलने दिया गया. अभी एक व्यापारी भाई आये थे उन्होंने जीएसटी के बारे में बोला. जीएसटी के लिए पार्लियामेंट को 11 बजे रात में खोला जा सकता है, लेकिन किसान के मुद्दे के लिए संसद में एक मिनट बात नहीं हो सकती है, यह है एनडीए-बीजेपी की सच्चाई. मैं आपको जीएसटी के बारे में बोलना चाहता हूं. उन्होंने कहा कि इससे छोटे व्यापारियों का परेशानी होगी. राहुल गांधी ने कहा कि मोदी जी किसान दु:खी हैं. इस देश की पूरी दुनिया में पहचान किसान से है और इन्हीं से दुनिया में देश का नाम रोशन हुआ है. मैंने मोदी जी से कहा कि आप किसान का कर्जा माफ कीजिए. किसान को सही दमा दिलवाइए और बिजली का दर हाफ कीजिए. पूरे प्रदेशों में हम गये. दो करोड़ किसानों ने हमारा पीटिशन भरा. कांग्रेस के वर्कर गये. गांव में गये. किसानों से पूछा कितना कर्ज है. किसी के पास एक लाख, दो लाख, 10 लाख कर्ज था. और, दो करोड़ लोगों ने मोदी जी को कागज पर लिख कर दिया कि हमारा कर्जा माफ कीजिए और यह पूरे हिंदुस्तान की मांग है, केवल उत्तरप्रदेश की मांग नहीं है. राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने कर्नाटक व पंजाब में कर्जा माफ किया. हमने अपने कर्नाटक में अपने सीएम से कहा सिद्धरमैया जी आपको क्या लगता है. किसानों के बारे में आपको क्या लगता है कर्जा माफ करना चाहिए. 24 घंटे के अंदर सिद्धरमैया ने कहा मैं 24 घंटे में कर्ज माफ कर देता हूं और कर दिखाया. यही काम अमरिंदर सिंह ने पंजाब में किया. यूपी में बीजेपी ने कर्जा माफ किया लेकिन उसका कारण कांग्रेस पार्टी थी. हमने यात्रा निकाली, दबाव डाला और भाजपा के लोग डर गये और उन्होंने यूपी में कर्जा माफ किया. राजस्थान का किसान दुखी है. सही एमएसपी नहीं मिलती. लंबी-लंबी बातें होती हैं, लेकिन कर्ज से किसान दबा हुआ है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here