नई दिल्लीः घरेलू बाजारों में अच्छी बढ़त के साथ कारोबार देखने को मिल रहा है। निफ्टी 9900 के ऊपर है, जबकि सैंसेक्स में 50 अंकों से ज्यादा की तेजी आई है। तेजी के इस माहौल में सैंसेक्स 32000 के ऊपर निकलने में कामयाब हुआ है। फिलहाल सैंसेक्स 85 अंक यानि 0.25 फीसदी की तेजी के साथ 32,041 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं निफ्टी 18 अंक यानि 0.2 फीसदी तक बढ़कर 9,918 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। बैंक निफ्टी 0.3 फीसदी की तेजी के साथ 24,226 के स्तर पर पहुंच गया है। स्मॉलकैप शेयरों में खरीदारी मिडकैप शेयरों की चाल सुस्त है, लेकिन स्मॉलकैप शेयरों में खरीदारी दिख रही है। निफ्टी के मिडकैप 100 इंडेक्स में 0.1 फीसदी की मामूली बढ़त दिख रही है। बी.एस.ई. का स्मॉलकैप इंडेक्स 0.3 फीसदी तक मजबूत हुआ है। PunjabKesari बैंकिंग, ऑटो में तेजी बैंकिंग, ऑटो, एफ.एम.सी.जी., रियल्टी और पावर शेयरों में खरीदारी देखने को मिल रही है। हालांकि आई.टी., मेटल, फार्मा और पी.एस.यू. बैंक शेयरों में बिकवाली आई है।

0
468

जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) लागू होने के बाद राजस्व में कितनी बढ़ोतरी हुई है, इसकी सटीक जानकारी अक्टूबर से पहले नहीं मिल पाएगी, जब नई अप्रत्यक्ष व्यवस्था अपनी पहली तिमाही पूरी करेगी. लेकिन पहले 15 दिनों के आंकड़ों को देखने से पता चलता है कि राजस्व में महीने-दर-महीने आधार पर 11 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. केंद्रीय उत्पाद शुल्क और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीईसी) ने यह जानकारी दी है.

सीबीईसी ने कहा कि एक जुलाई से 15 जुलाई के बीच आयात से प्राप्त कुल राजस्व 12,673 करोड़ रुपये रहा, जबकि जून महीने में समान अवधि में यह 11,405 करोड़ रुपये था.

सीबीईसी की प्रमुख वनजा सरना ने बताया, “सीमा शुल्क से ठीकठाक राजस्व प्राप्त हुआ है. हमें उम्मीद है कि राजस्व की मात्रा पिछले महीने जितनी ही होगी। हालांकि हम साल दर साल आधार पर इसमें बहुत अधिक वृद्धि की उम्मीद नहीं कर रहे हैं. 30 जून की आधी रात से प्रथम 15 दिनों में कुल 12,673 करोड़ रुपये का राजस्व इकट्ठा किया गया है.”

जीएसटी के प्राप्त कुल राजस्व के बारे में उन्होंने कहा कि इसका पहला अनुमान अक्टूबर तक ही मिल पाएगा, क्योंकि व्यापारी सितंबर में रिटर्न दाखिल करेंगे.

उन्होंने कहा, “हमें जीएसटी शासन का कम से कम एक तिमाही (जुलाई-अगस्त-सितंबर) का आंकड़ा चाहिए होगा, जोकि अक्टूबर में आएगा. राजस्व का आकलन करने के लिए कम से कम तीन महीनों के आंकड़ों को देखना होगा.”

हालांकि जीएसटी की दरों को ‘राजस्व तटस्थ’ रखा गया है, ताकि कर की दरें पहले जितनी थीं, उतनी ही रहें. सरना ने कहा कि जरूरी नहीं है कि इससे राजस्व वृद्धि में किसी प्रकार की गिरावट ही आएगी.

उन्होंने कहा, “इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ व्यापारियों को मिलेगा, लेकिन कर आधार में बढ़ोतरी से राजस्व को कोई नुकसान नहीं होगा. हालांकि डिजिटीकरण से कर आधार में तेजी से वृद्धि हो रही है, लेकिन अभी इस पर कुछ कहना जल्दबाजी होगी.”

वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि जीएसटी के अंतर्गत कर आधार में 80 लाख तक की आसानी से बढ़ोतरी होगी. अब तक जीएसटी के अंतगर्त नए और पुराने मिलाकर 75 लाख पंजीकरण किए गए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.