चीन की धमकीः डोकलाम से नहीं हटेंगे पीछे, अपनी जमीन का एक ईंच हिस्सा भी खोना बर्दाश्त नहीं

0
300

चीन की सरकारी मीडिया ने कहा कि अपनी जमीन का एक इंच हिस्सा खोना भी बर्दाश्त नहीं कर सकता। चीन ने सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में सैन्य तनातनी खत्म करने के लिए वहां से पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (चीनी सेना) के सैनिकों को वापस बुलाने से भी इनकार कर दिया।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक चीन में कम्युनिस्ट पार्टी के माउथपीस द ग्लोबल टाइम्स ने शुक्रवार को अपने एक संपादकीय में यह कहा। यह डेली न्यूजपेपर आमतौर पर सत्तारूढ़ दल के विचारों के हिसाब से चलता है और दोनों देशों के बीच जारी तनाव के बीच भारत के खिलाफ जमकर बयानबाजी कर रहा है।

एक ईंच जमीन भी गंवाना बर्दाश्त नहीं- चीन

अखबार ने लिखा है, “चीन अपनी जमीन का एक इंच हिस्सा भी गंवाना बर्दाश्त नहीं कर सकता और चीन के लोग यही चाहते है, यह उनकी अटूट इच्छा और अनुरोध है। चीन सरकार लोगों की मूलभूत इच्छा को नजरअंदाज नहीं करेगी और PLA चीन के लोगों को नीचा नहीं दिखाएगी।”

सुषमा पर संसद से झूठ बोलने का आरोप
अखबार ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पर यह आरोप भी लगाया कि उन्होंने सिक्किम सेक्टर में भारत की कथित घुसपैठ को जायज ठहराने के लिए संसद में ‘झूठ बोला’ है। अखबार ने सुषमा की राज्यसभा में दिये भाषण का जिक्र करते हुए लिखा, “वह संसद से झूठ बोल रही थीं।” सुषमा ने संसद में कहा था कि भारतीय सैनिकों ने चीनी क्षेत्र में घुसपैठ नहीं की और सभी देश भारत के रुख का समर्थन करते हैं। हालांकि चीन के विदेश मंत्रालय की तरफ से सुषमा के बयान पर अब तक कोई कमेंट नहीं आया है।

हार जाएगा भारतः चीन

हालांकि अखबार ने कहा, यह सीधी बात है कि भारत ने चीन की जमीन पर घुसपैठ की है और भारत की सैन्य ताकत चीन से काफी कम है। संपादकीय के अनुसार, चीन और भारत के बीच संघर्ष इस स्तर तक बढ़ जाए कि विवाद का हल सैन्य तरीके से ही करना पड़े तो भारत यकीनन हार जाएगा।

चीनी अखबार ने कहा कि चीन बातचीत की पूर्व शर्त के तौर पर अपनी सेना वापस बुलाने पर कभी भी सहमत नहीं होगा और अगर भारत जिद पर अड़ा रहा तो उसे भविष्य में तनाव के गंभीर रूप से बढ़ने पर सभी संभावनाओं को लेकर तैयार रहना चाहिए।

क्या है विवाद?
सुषमा स्वराज ने कहा कि चीन ने एकतरफा कार्रवाई करते हुए सिक्किम-भूटान सीमा (डोकलाम) को लेकर जारी विवाद पर स्थिति में बदलाव की कोशिश की है। लेकिन चीन की तरफ से यह कोशिश भारत की सुरक्षा के लिए काफी चुनौतीपूर्ण हो सकती है। चीन सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में सड़क बना रहा है। इस इलाके में ही चीन, सिक्किम और भूटान की सीमाएं मिलती हैं। भूटान और चीन इस इलाके पर अपना-अपना दावा करते हैं। भारत के लिए यह क्षेत्र सुरक्षा की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है और वह भूटान के साथ है। भारत विवादित इलाके को ‘डोकलाम’ और चीन ‘डोंगलांग’ कहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here