चीन का दुस्साहस, 6 दिन पहले भारतीय सीमा में घुसे थे चीनी सैनिक

0
452

भारत- चीन के बीच सीमा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच चीनी सेना ने भारतीय सीमा में घुसपैठ की। सूत्रों के हवाले से खबर मिली है कि चीनी सैनिक उत्तराखंड के बाराहोटी में एक किमी तक अंदर घुस आए थे। ये घटना 25 जुलाई सुबह 9 बजे की बताई जा रही है। आपको बता दें कि चीन द्वारा की गई इस घुसपैठ के ठीक एक दिन बाद ही भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने अपने चीनी समकक्ष एवं स्टेट काउंसिलर यांग जेची से डोकलाम मुद्दे पर चर्चा की थी। हालांकि अभी डोकलाम मुद्दे का कोई भी हल नहीं निकल पाया है और दोनों ही देशों के बीच सीमा पर तनाव की स्थिति बनी हुई है। ऐसे में इस नए मामले के सामने आने से दोनों दशों के बीच विवाद और बढ़ सकता है। मीडिया में चल रही खबरों मुताबिक चीनी सेना ने 25 जुलाई को उत्तराखंड के चमोली जिले से सटी सीमा पर घुसपैठ की है। खबर है कि चमोली जिले के बाराहोटी में चीनी सैनिक लगभग 1 घंटे तक रहे।
इसी इलाके में एक साल पहले भी चीन ने की थी हिमाकत : 2016 के जुलाई महीने के अंतिम सप्ताह में भी चीनी सेना ने उत्तराखंड के बाराहोटी इलाके में घुसपैठ से पहले सिंथेटिक ऐपर्चर रेडार (एसएआर) से लैस उच्च श्रेणी के विमान का इस्तेमाल कर एक टोही मिशन चलाया था।एसएआर विमान व्यापक क्षेत्र की उच्च गुणवत्ता वाली तस्वीर उपलब्ध कराता है।
क्या है बाराहोटी सीमा से सटा मामला : बाराहोटी उत्तरप्रदेश, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड पर आधारित ‘मिडिल सेक्टर’ में पड़ने वाली उन तीन सीमा चौकियों में से एक है, जहां आईटीबीपी के जवानों को उनके हथियार ले जाने की अनुमति नहीं है। ऐसा जून 2000 में तत्कालीन सरकार के एकपक्षीय फैसले के कारण है। वर्ष 1958 में, दोनों देशों ने 80 वर्ग किलोमीटर के ढलान वाले चारागाह बाराहोटी को एक विवादित क्षेत्र के रूप में अधिसूचित किया था, जहां कोई भी पक्ष अपने सैनिक नहीं भेजेगा। वर्ष 1962 के युद्ध में, चीन की पीएलए 545 किलोमीटर के मिडिल सेक्टर में नहीं घुसी थी और उसने अपना ध्यान पश्चिमी (लद्दाख) और पूर्वी (अरूणाचल प्रदेश) सेक्टरों पर केंद्रित रखा था।
डोकलाम विवाद : जून 2017 में भारत और चीन के सैनिकों के बीच भूटान की सीमा पर धक्कामुक्की हुई जो कि भूटान की भारत में लगती सीमा पर नाथूला और अन्य स्थानों पर देखी गई। यह स्थिति अभी भी समाप्त नहीं हुई है। चीन के सैनिक भूटान की जमीन से सड़कें बनाने की कोशिश रहे हैं जबकि भारतीय सैनिक उन्हें ऐसा करने से रोक रहे हैं। चीन ने भूटान के पूर्व में चुम्बी घाटी तक सड़क बना ली है और यहां एक नदी भी है जिसे ऐमेचो नदी कहा जाता है। इस इलाके को चुम्बी नदी घाटी के नाम से जाना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here