बिहार में लालू यादव को फिर झटका, कोर्ट से नीतीश को मिली बड़ी राहत

0
112

बिहार में महागठबंधन टूटने के बाद राजद नेता सीएम नीतीश पर जमकर हमला बोल रहे हैं। आज पटना राजद कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर बड़े खुलासे की बात कही गई। कार्यालय में प्लाज्मा टीवी लगाकर पत्रकारों को 1991 में हुए हत्याकांड में मृतक सीताराम सिंह के भाई का वीडियो दिखाया गया। वीडियो दिखाने के बाद सीताराम सिंह की हत्या का आरोप नीतीश कुमार पर लगाते हुए उनसे इस्तीफे की मांग की और कहा कि इस हत्या में नीतीश के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज है। प्राथमिकी में उनका नाम है और अब पीड़ित परिवार न्याय की मांग कर रहा है। इसलिए नीतीश कुमार को इस्तीफा देकर मामले में न्यायिक प्रक्रिया का सामना करना जाहिए। जगदानंद सिंह ने कहा कि बिहार में महागठबंधन किसी सिद्धांत या आदर्शवाद की वजह से नहीं टूटा। इसके पीछे सिर्फ एक शख्स है, वो हैं नीतीश कुमार। नीतीश कुमार अपराध के सबसे बड़े पोषक और संरक्षक हैं। राज्य एक तरफ होता है और अपराधी दूसरी तरफ होता है। नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री के पद पर बैठने का कोई हक नहीं है। अब बिहार की जनता को सच जानने का हक है। जगदानंद सिंह राजद प्रदेश मुख्यालय में कहा कि सांप्रदायिकता से देश को बचाने के लिए महागठबंधन हुआ था। नीतीश कुमार ने जो आदर्श स्थापित करने की कोशिश की उसपर वह स्वयं खरा नहीं उतरे। वह भारत को खंडित होने के खतरे बढ़ाने वाली विचारधारा से समझौता कर चुके हैं। वहीं राज्य को खंडित होने से बचाना ही राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव का लक्ष्य है। इसका जवाब देते हुए जदयू के प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि जगदानंद सिंह जैसे वरिष्ठ नेता से एेसी उम्मीद नहीं थी। इस मामले में पहले ही जदयू अपनी सफाई दे चुका है और अब पुरानी और आधारहीन बात बताकर वो क्या साबित करना चाहते हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here