चार युवा खिलाड़ियों ने दिखाया दम, द. अफ्रीका को रौंद भारत को दिलाया खिताब

0
53

शार्दुल ठाकुर और सिद्धार्थ कौल की उम्दा गेंदबाजी के बाद श्रेयष अय्यर के नाबाद शतक की बदौलत भारत ‘ए’ ने मंगलवार को दक्षिण अफ्रीका ‘ए’ पर सात विकेट की आसान जीत के साथ ‘ए’ टीमों की त्रिकोणीय वनडे सीरीज जीत ली। भारत ने चार साल पहले भी यह ट्रॉफी जीती थी और अब उसे बरकरार रखा।

दक्षिण अफ्रीका ‘ए’ के 268 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत ‘ए’ ने अय्यर की 131 गेंदों में 11 चौकों और चार छक्कों से करियर की सर्वश्रेष्ठ नाबाद 140 रनों की पारी और विजय शंकर (72) के साथ तीसरे विकेट की 141 रनों की और कप्तान मनीष पांडे (नाबाद 32) के साथ चौथे विकेट के लिए 109 रनों की अटूट साझेदारी की बदौलत 19 गेंद शेष रहते तीन विकेट पर 270 रन बनाकर जीत दर्ज की।

इससे पहले दक्षिण अफ्रीका ‘ए’ की टीम फरहान बेहरदीन (नाबाद 101) के शतक और डेवाल्ड प्रिटोरियस (58) के अर्धशतक के बावजूद ठाकुर (52 रन पर तीन विकेट) और कौल (55 रन पर दो विकेट) की उम्दा गेंदबाजी के सामने सात विकेट पर 267 रन ही बना सकी।

बेहरदीन ने 114 गेंद की अपनी पारी में तीन छक्के और चार चौके जड़े। उन्होंने कप्तान खाया जोंडो (39) के साथ चौथे विकेट के लिए 80 रनों और प्रिटोरियस के साथ छठे विकेट की 101 रनों की साझेदारी की बदौलत टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया। लक्ष्य का पीछा करने उतरे भारत ‘ए’ की शुरुआत अच्छी नहीं रही और टीम ने 20 रन तक दोनों सलामी बल्लेबाजों संजू सैमसन (12) और करुण नायर (04) के विकेट गंवा दिए। दोनों को तेज गेंदबाज कार्ल जूनियर डाला (49 रन पर दो विकेट) ने पवेलियन भेजा।

अय्यर और विजय शंकर ने इसके बाद पारी को संवारा। दोनों ने 14वें ओवर में टीम का स्कोर 50 और 25वें ओवर में 100 रन तक पहुंचाया। अय्यर ने तबरेज शम्सी की गेंद पर एक रन लेने के साथ 74 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया जबकि विजय शंकर ने डाला पर लगातार दो चौकों से 68 गेंदों में यह उपलब्धि हासिल की।

अय्यर ने शम्सी पर पारी का पहला छक्का जड़ा लेकिन प्रिटोरियस (51 रन पर एक विकेट) ने विजय शंकर को हेनरी डेविड्स के हाथों कैच करवाकर इस साझेदारी को तोड़ दिया।

अय्यर ने इसके बाद कप्तान के साथ मिलकर टीम को लक्ष्य तक पहुंचाया। अय्यर ने डाला जबकि पांडे ने विलेम मुल्डेर पर छक्का जड़ा। अय्यर ने डेन पेटरनस पर छक्के के साथ 111 गेंदों में अपना दूसरा लिस्ट ए शतक पूरा किया। उन्होंने 46वें ओवर में प्रिटोरियस पर लगातार चार चौके मारे और फिर अगले ओवर में आरोन फांगिसो पर चौके के साथ टीम को जीत दिलाई।

इस जीत के साथ ही भारत ‘ए’ ने त्रिकोणीय श्रंखला की ट्रॉफी अपने नाम कर ली। दक्षिण अफ्रीका के अलावा इस टूर्नामेंट में तीसरी टीम अफगानिस्तान की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here