बिहार विधानमंडल का मॉनसून सत्र: सृजन घोटाले की भेंट चढ़ा पहला दिन

0
342

बदले राजनीतिक समीकरण के बाद आज से बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र शुरू हुआ है जो पांच दिन चलेगा। आज पहले दिन सदन की कार्यवाही सुबह 11 बजे से शुरू होने के साथ ही विपक्ष ने जमकर हंगामा मचाया। सदन की आज की कार्यवाही विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ गई और सदन कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया।
विपक्षी सदस्यों ने सृजन घोटाला मामले और बाढ़ को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के इस्तीफे की मांग की। विधानमंडल के मुख्यद्वार पर राजद के सदस्यों ने हाथों में तख्तियां और पोस्टर लेकर प्रदर्शन किया और जमकर नारेबाजी की। इसके साथ ही वामदल के सदस्यों ने बिहार में आयी बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की।
सुबह 11 बजे विधानसभा की कार्यवाही शुरू हुई और स्पीकर विजय चौधरी ने विधानसभा के सभी सदस्यों से सदन में सार्थक बहस करने की अपील की। विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने पर वित्त मंत्री सुशील मोदी अनुपूरक बजट पेश किया।
उसके बाद बिहार विनियोग विधेयक, वेतन भत्ता बढ़ोतरी विधेयक, बिहार निजी विश्वविद्यालय, बिहार काराधन संशोधन विधेयक सहित पटना विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक सदन के पटल पर रखा गया। विपक्ष ने हंगामा मचाना शुरू किया और मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग की। हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित कर दी गई।
जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर बोला। उन्होंने लालू प्रसाद को घोटालेबाजों का सरदार कहा और कहा कि नीतीश कुमार की सरकार किसी को नहीं बचायेगी।वहीं, राजद के भाई वीरेंद्र ने सृजन घोटाले के आरोपित की मौत को साजिश बताया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here