म्यामां हमले में 89 लोगों की मौत के बाद अमेरिका ने किया अनुरोध

0
330

यंगून : पश्चिमी म्यामां में जातीय रोहिंग्या उग्रवादियों के एक हमले में 12 सुरक्षाकर्मियों और 77 रोहिंग्या मुस्लिमों के मारे जाने के बाद अमेरिका ने अधिकारियों से अपील की है कि वे ऐसी जवाबी कार्रवाई न करें, जो तनाव बढा सकती हो. गौरतलब है कि म्यामां में नाटकीय रूप से सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं में बढोतरी हुई है और हिंसा की इस हालिया घटना ने क्षेत्र को तबाह कर दिया है.
देश की नेता आंग सान सू की के कार्यालय ने कल कहा कि सेना और सीमा पुलिस ने ‘ ‘हमलावरों के विरद्ध सफाया अभियान ‘ ‘ चलाकर उनका जवाब दिया. पुलिस ने बंदूकों, हथियारों, देसी ग्रेनेडों से लैस कम से कम 100 रोहिंग्या हमलावरों को खदेड़ दिया. जब्त हथियारों को सरकार द्वारा ऑनलाइन पोस्ट की गयी तस्वीरों में दिखाया गया है. सू की ने इन हमलों को ‘ ‘राखिन प्रांत में शांति एवं सौहार्द्र की इच्छा रखने वाले लोगों के प्रयासों को कमजोर करने की एक सोची समझी रणनीति ‘ ‘ बताया है.

अमेरिका में विदेश विभाग की प्रवक्ता हीथर नॉर्ट ने वाशिंगटन में कहा कि आगामी हिंसा की घटनाओं को रोकने के लिए और दोषियों को न्याय के कटघरे तक लाने के लिए काम करते समय सुरक्षा बलों को कानून का सम्मान करना चाहिए और मानवाधिकारों एवं मौलिक आजादी की रक्षा करनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here