अमेरिका की बाढ़ देखकर डोनाल्ड ट्रंप भी हिल गए, ह्यूस्टन से निकाले गए 200 भारतीय छात्र

0
480

अमेरिका में इस बार ऐसी विनाशकारी बाढ़ आई है कि जिसे देखकर वहां के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी चिंतित हो गए हैं. इस बाढ़ का हाल जानने के लिए खुद डोनाल्ड ट्रंप पत्नी के साथ ह्यूस्टन शहर जाने वाले हैं. बाढ़ से ह्यूस्टन शहर का सबसे ज्यादा बुरा हाल है. गनीमत रही कि ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी कैम्पस में फंसे 200 भारतीय छात्रों को बाहर निकाल लिया गया है. इससे पहले, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करके इन छात्रों के फंसे होने की जानकारी दी थी. उन्होंने यह भी बताया था कि दो भारतीय छात्र शालिनी और निखिल भाटिया को अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा है. हार्वे साइक्लोन अमेरिका के कई इलाकों में भारी तबाही मचाई है. यह 12 साल का सबसे ताकतवर साइक्लोन है. इससे टेक्सास और ह्मूस्टन में जबर्दस्त बारिश हुई है. सड़कों पर नाव चल रही हैं. सैकड़ों इमारतें ढह गई हैं. दो लाख घरों की बिजली गुल है. हजारों लोग छतों पर रात बिता रहे हैं. ह्मूस्टन में पांच लोगों की मौत की भी खबर है. मौसम विभाग का कहना है कि दो दिन में टेक्सास शहर पर 11 ट्रिलियन गैलन (41 लाख करोड़ लीटर) पानी गिरा है. यह उतना ही है जितना कैलिफोर्निया में 2015 में आए सदी के सबसे बड़े सूखे को खत्म करने के लिए चाहिए था. डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में कहा, यह अब तक का सबसे बड़ा है. उन्होंने बताया है कि यह ऐतिहासिक है. ट्रंप ने उष्णकटिबंधीय चक्रवात हार्वे के बारे में कहा, संभवत: पहले इस तरह का कुछ नहीं हुआ है. खाड़ी तट पर सप्ताहांत में तूफान आया था और इसने ह्यूस्टन प्रांत को जल प्लावित कर दिया. ट्रंप ने कहा, मैंने इस तूफान के बारे में ‘सबसे बड़ा’ और ऐतिहासिक शब्द का इस्तेमाल होते हुए सुना. इससे पहले अमेरिकी नेता ने सूचित किया था कि उनकी टीम कांग्रेस के नेताओं के साथ इस तूफान से प्रभावित लोगों को राहत पहुंचाने के मुद्दे पर चर्चा के लिए संपर्क में हैं. यह तूफान टेक्सास के तट से होता हुआ लुइसियाना की ओर बढ़ रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.