कानूनी प्रावधानों में फंस रही JDU की जंग, अब शरद ने बुलाया राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन

0
58

राजद की रैली में शामिल होकर जदयू में नीतीश कुमार से आर-पार की लड़ाई का बिगुल फूंक चुके शरद यादव का मामला कानूनी प्रावधानों में फंसता नजर आ रहा है। जदयू महासचिव केसी त्‍यागी ने कहा है कि पार्टी नेता शरद यादव व अली अनवर ने पार्टी के निर्देशों की अवहेलना कर राजद की रैली में शामिल होकर स्‍वत: दल त्‍याग कर दिया है। उधर, शरद गुट के अनुसार नीतीश कुमार ही नियमों की अवहेलना कर रहे हैं। इस बीच शरद यादव ने 17 एवं 18 सितंबर को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन आयोजित कर दिया है। विदित हो कि शरद यादव ने पार्टी के निर्देशों की अवहेलना करते हुए राजद की रैली में शिरकत की। शरद वहां विपक्षी महागठबंधन के पक्ष में बोले, जबकि जदयू अब राजग का हिस्‍सा है। इसके पहले जदयू महासचिव केसी त्‍यागी ने पत्र लिखकर उन्‍हें आगाह किया था कि अगर वे राजद की रैली में जाते हैं तो इसे उनके स्‍वत: इल त्‍याग का मामला माना जाएगा।
जदयू ने कहा : इस बीच जदयू के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि शरद यादव और अली अनवर के मामले स्वेच्छा से दल त्याग के हैं। दोनों ने जदयू के खिलाफ राजद की रैली में मंच साझा किया। पार्टी ने दो दिन पूर्व शरद यादव को पत्र लिखकर यह आग्रह किया था कि वे राजद की रैली में शामिल नहीं हों, क्‍योंकि रैली परिवार व भ्रष्टाचार के समर्थन में है। इसपर शरद का तर्क था कि वह महागठबंधन की रैली में शामिल होने जा रहे हैैं। त्‍यागी ने कहा कि पार्टी के निर्देश का उल्लंघन कर रैली में शामिल होने का मामला स्वेच्छा से दल त्याग का मामला है।
शरद खेमे का केसी त्‍यागी पर पलटवार : इसके बाद शरद खेमे ने जदयू के प्रधान राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी पर पलटवार करते हुए उन्हें पत्र लिखा है। यह पत्र केसी त्यागी द्वारा शरद यादव को लिखे गए पत्र के जवाब में है। शरद यादव की ओर से जवाब देते हुए पूर्व राष्ट्रीय महासचिव जावेद रजा ने कहा है कि शरद ने पार्टी विरोधी कोई काम नहीं किया है। त्यागी उलटा चोर कोतवाल कोडांटे वाली कहावत चरितार्थ कर रहे हैं। शरद वही कर रहे हैं, जिसका फैसला जदयू की 20-21 दिसंबर 2015 को हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी और फिर 23 अप्रैल, 2016 को राष्ट्रीय परिषद की बैठक में लिया गया था।
शरद गुट ने खुद केा बताया ‘असली’, किया पार्टी पर दावा : जावेद रजा ने कहा कि हमने तो चुनाव आयोग में 25 अगस्त को ज्ञापन सौंप कर कहा है कि असली जदयू शरद यादव के साथ है। हमारे खेमे को जदयू का चुनाव चिह्न सौंपा जाए।
शरद गुट ने बुलाया राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन : खुद के गुट को असली जदयू बताते शरद यादव ने 17 एवं 18 सितंबर को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन भी आयोजित कर दिया है। 17 सितंबर को राष्ट्रीय कार्यकारिणी और 18 सितंबर को राष्ट्रीय परिषद एवं राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित होगा। सोमवार को शरद यादव के करीबी अरुण श्रीवास्तव ने बताया कि इस अधिवेशन में 27 राज्यों के प्रतिनिधि शामिल होंगे, जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा। जदयू महासचिव केसी त्‍यागी के इस तर्क पर, कि पार्टी के सभी विधायक-विधान पार्षद व सांसद उनके साथ हैं, श्रीवास्तव ने कहा कि संगठन विधायक-संसद से नहीं, बल्कि कार्यकर्ताओं एवं पार्टी पदाधिकारियों से चलता है।
शरद गुट का आरोप, नीतीश कर रहे कानून का उल्‍लंघन : केसी त्‍यागी द्वारा 10वीं अनुसूची के तहत शरद यादव की राज्‍यसभा सदस्यता समाप्त करने संबंधी पत्र की चर्चा करते हुए रजा ने कहा कि नीतीश कुमार की ओर से पहले कहा गया था कि गांधी मैदान की रैली में शरद यादव शामिल होंगे तो उन्हें पार्टी से निष्कासित माना जाएगा। अब सभापति को पत्र लिखने की बात कही जा रही है। 10वीं अनुसूची का तो खुद नीतीश कुमार उल्लंघन कर रहे हैं। पिछले साल की राष्ट्रीय कार्यकारिणी और राष्ट्रीय परिषद के निर्णयों के अनुसार ही शरद यादव काम कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here