रेयान स्कूल मर्डर केस: सीएम नीतीश ने हरियाणा सीएम से कहा- दोषियों पर कार्रवाई करें

0
58

हरियाणा के गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल के दूसरी कक्षा के छात्र प्रद्युमन की हत्या मामले में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर से रविवार को बात की।हरियाणा सीएम से बातचीत में उन्होंने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मां की। साथ ही सीएम नीतीश कुमार ने स्थानीय आयुक्त नई दिल्ली को भी निर्देश दिया कि वे तुरंत वहां से पदाधिकारी गुरुग्राम भेंजे। वहां जाकर पीड़ित परिवार से मिलकर उन्हें सांत्वना दें। सीएम के निर्देश पर बिहार के डीजीपी पी के ठाकुर ने भी हरियाणा के डीजीपी से दूरभाष पर बात की और दोषियों के खिकलाफ कड़ी कार्रवाई करने का अनुरोध किया है। सीएम ने पीड़ित परिवरा के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है।आपको बता दें कि मृतक बच्चे प्रद्युमन का परिवार बिहार के मधुबनी जिले का मूल निवासी है।
मर्डर के आरोपी ने गुनाह किया कुबूल
गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के बच्चे के मर्डर के आरोपी बस कंडक्टर अशोक ने गुनाह कबूल कर लिया है। अशोक ने मीडिया को बताया कि उसकी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी। वह प्रद्युम्न के साथ गलत काम करना चाहता था। बच्चे ने शोर मचाया तो चाकू से उसके गले पर वार कर दिया। अशोक ने बताया कि उसने दो बार गले पर वार किया। यह सब उसने पांच मिनट के अंदर कर दिया। पुलिस ने अशोक को शुक्रवार रात को ही सेक्शुअल एब्यूज और मर्डर के आरोप में गिरफ्तार किया था। उसे 3 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा गया है।
सीबीएसई ने कमेटी का गठन किया
गुड़गांव मर्डर केस में सीबीएसई ने दो मेंबर्स वाली फैक्ट फाइंडिंग कमेटी का गठन किया है। कमेटी ने स्कूल मैनेजमेंट से 2 दिन के भीतर रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है। ये रिपोर्ट स्कूल को एफआईआर की कॉपी के साथ दाखिल करनी होगी। पैनल 30 दिन के भीतर रेयान इंटरनेशनल स्कूल जाएगा और इसे अपनी रिपोर्ट 16 अक्टूबर से पहले देनी होगी। पैनल इस बपात की जांच करेगा कि क्या ये मर्डर स्कूल की लापरवाही की वजह से हुआ है? क्या स्कूल ने नियमों के मुताबिक सुरक्षा के सभी कदम उठाए थे?
प्रिंसिपल सस्पेंड
गुरुग्राम के डीसीपी ने बताया कि रेयान स्कूल के प्रिंसिपल को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं, स्कूल की सिक्युरिटी संभालने वाली एजेंसी पर भी कार्रवाई की गई है। इस बीच, बच्चे के पिता वरुण अपने वकील के साथ शनिवार को पुलिस कमिश्नर के ऑफिस पहुंचे। उन्होंने स्कूल मैनेजमेंट के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।
पिता बोले- सुबह बेटे को स्कूल छोड़ा था, 15 मिनट में ये हो गया
प्रद्युम्न के पिता वरुण के मुताबिक, मैंने सुबह 7:55 बजे बच्चे को स्कूल छोड़ा था। वह बहुत खुश था। सुबह 8:10 बजे यानी पंद्रह मिनट बाद स्कूल मैनेजमेंट ने मुझे फोन कर बताया कि बच्चे की तबीयत खराब हो गई है और उसे हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। जब तक हम मौके पर पहुंचे, बच्चे की मौत हो चुकी थी। पिता ने कहा कि स्कूल मैनेजमेंट ने मुझे सही जानकारी नहीं दी। यदि वे बेटे को सही समय पर अस्पताल ले गए होते तो उसकी जान बच सकती थी। उन्होंने कहा, “ये मर्डर का मामला है। ये कैसे हुआ? ये मुझे पता नहीं पता। लेकिन ये जानता हूं कि ये हत्या है। जो लोग जिम्मेदार हैं, उन पर तुरंत एक्शन क्यों नहीं हुआ? अगर कोई पिता अपने बच्चे को आठ घंटे के लिए स्कूल छोड़ेगा तो किस भरोसे के साथ छोड़ेगा।’’
गुस्साए परिजनों का हंगामा
घटना के बाद शनिवार को स्कूल के अन्य बच्चों के अभिभावकों ने जबरदस्त हंगामा किया। हंगामे को देखते हुए पुलिस बल स्कूल गेट पर तैनात कर दिया गया। गुस्साए अभिभावकों का कहना है कि कोई किस तरह ऐसे स्कूल में अपने बच्चों को भेजेगा। कुछ का कहना है कि उनके बच्चे डरे हुए हैं। वे स्कूल जाने से मना कर रहे हैं। बच्चे स्कूल प्रशासन पर जल्द से जल्द पुलिस कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। कुछ अभिभावक सीबीआई जांच की भी मांग उठा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here