राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कानपुर से करेंगे ‘स्वच्छता ही सेवा है अभियान’ की शुरुआत

0
73

नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कानपुर से ‘स्वच्छता ही सेवा है अभियान’ की शुरुआत करेंगे. वे 15 सितंबर को इस अभियान को शुरू करेंगे. इसके साथ ही सभी ग्राम पंचायतों में विशेष साफ-सफाई, स्वच्छता यात्रा की शुरुआत होगी और स्वच्छता की शपथ दिलाई जाएगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले ‘मन की बात’ कार्यक्रम में गांधी जयंती से 15 दिन पहले स्वच्छता ही सेवा अभियान शुरू करने का आह्वान किया था। यह अभियान 31 दिसंबर 2018 तक पूरे देश में चलाया जाना है. इसका लक्ष्य पूरे देश को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) करना है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपने 67वें जन्मदिन के अवसर पर 17 सितंबर को एक गांव में रह कर स्वच्छता अभियान में हिस्सा लेंगे.

सरकारी सूत्रों के अनुसार दो अक्तूबर 201 9 में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर इस लक्ष्य को पूरा करने की बात कही गई है. इसके अलावा सभी मंत्रियों से स्वच्छता अभियान को मिशन मोड में चलाने का निर्देश दिया गया है. इनसे कहा गया है कि अस्पताल, स्कूल, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, पर्यटन स्थल और बाजारों जैसी जगहों को साफ रखने के लिए बड़ा अभियान चलाने की जरूरत है.
गरीब और पिछड़े इलाक़ों में स्वच्छता और पेयजल के लिए भी विशेष मुहिम चलाई जाएगी. बड़े पैमाने पर शौचालयों का निर्माण करने को कहा जाएगा और इसके लिए अलग-अलग मंत्रालयों के लिए विशेष मुहिम चलाना होगी. बड़े पर्यटन स्थलों को स्वच्छ रखने की अपील के लिए मशहूर हस्तियों का सहारा लिया जा सकता है.

यह विशेष स्वच्छता अभियान महात्मा गांधी के जन्मदिन २ अक्तूबर तक चलाया जाएगा. क्रिकेट और हॉकी टीम के खिलाड़ियों से भी कहा जाएगा कि वो शौचालय निर्माण की मुहिम में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लें. सेना के जवान ऊंचे पर्वतीय इलाकों को साफ करने का अभियान चलाएंगे.

झाड़ू लगाकर मनाएंगे पीएम मोदी का जन्मदिन: स्वच्छता ही सेवा है अभियान में हर रविवार को बड़ी हस्तियों को जोड़ा जाएगा. संयोगवश इस रविवार को पीएम मोदी का जन्मदिन भी है. इस दिन सारे मंत्रियों और बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं से कहा गया है कि वे अपने चुनाव क्षेत्रों या फिर पहले से तय जगहों पर मौजूद रहें.

ये सभी इन इलाकों में स्वच्छता अभियान चलांएगे और इलाकों को साफ करेंगे. बीजेपी शासित राज्यों में मुख्यमंत्री और मंत्री भी अपने-अपने चुनाव क्षेत्रों या फिर अन्य तय जगहों पर स्वच्छता अभियान में हिस्सा लेंगे. बीजेपी मंत्रियों से शौचालयों के निर्माण और सार्वजनिक स्थानों की सफाई को कहा गया है. यह निर्देश दिया गया है कि ये अभियान सिर्फ दिखावा बन कर न रह जाए. बल्कि जमीन पर इसके ठोस नतीजे भी दिखने चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here