क्रिकेट में नए नियम लागू, 5 मौके जब आईसीसी ने बदल दिया क्रिकेट का खेल

0
167

आईसीसी ने क्रिकेट को और रोमांचक बनाने के लिए नए नियम लागू कर दिए हैं। इसमें बैट के साइज से लेकर रन आउट तक सभी नियमों में बदलाव किया गया है। साथ ही कोई खिलाड़ी मैदान पर लड़ाई-झगड़ा करता है तो उसे तुरंत मैदान से बाहर निकाल दिया जाएगा।

यह हैं नए नियम :
इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने क्रिकेट को और रोचक बनाने के लिए नए नियम लागू कर दिए हैं।

1. लड़ाई करने पर 5 रन की पेनाल्‍टी :
खिलाड़ियों के मैदान पर व्‍यवहार को लेकर कड़े नियम बनाए गए हैं। अगर कोई खिलाड़ी विपक्षी टीम के किसी सदस्‍य से लड़ाई-झगड़ा करता है तो तुरंत ही विपक्षी टीम को पांच रन पेनाल्‍टी के रूप में दिया जाएगा। यही नहीं अगर मैदान पर मारपीट की नौबत आ जाती है, तो उस खिलाड़ी को पूरे मैच के लिए मैदान से बाहर कर दिया जाएगा। इसके अलावा अंपायर के फैसले पर आपत्‍ति जताना या उनसे भिड़ने पर भी यही नियम लागू होगा।
2. बैट का
साइज होगा बराबर :
अक्‍सर देखा जाता है कि कुछ खिलाड़ी भारी बल्‍ले से खेलते हैं। नए नियम के मुताबिक सभी खिलाड़ियों को सामान आकार के बल्‍ले मिलेंगे। अब बैट की चौड़ाई 108mm, गहराई 67mm और एजेस 40mm कर दिए गए हैं। और सभी खिलाड़ियों को इसी बल्‍ले से खेलना होगा।

3. हवा में है बल्‍ला फिर भी नहीं होगा रन आउट :
सबसे बड़ा बदलाव रन आउट को लेकर किया गया है। अब कोई भी बल्‍लेबाज स्‍टंप में गेंद लगने से पहले अपना बैट क्रीज के अंदर पहुंचा देता है, भले ही वो हवा में क्‍यों न हो उसे आउट नहीं माना जाएगा।
4. डीआरएस :
नए नियमों के मुताबिक अगर एलबीडब्ल्यू के लिए रेफरल ‘अंपायर्स कॉल’ के तौर पर वापस आता है तो टीम अपना रिव्यू नहीं गंवाएंगी। टेस्ट क्रिकेट में अब 80 ओवरों के बाद टॉप-अप रिव्यू नहीं मिलेंगे, मतलब की अब एक पारी में सिर्फ 2 ही रिव्यू ले सकते हैं और अगर रिव्यू का फैसला गलत होता है तो वो 80 ओवर के बाद दोबारा नहीं मिलेंगे। इसके साथ ही अब टी-20 में भी डीआरएस को शामिल कर दिया गया है।

5. हेलमेट में लगकर कैच हुआ तो आउट :
बल्‍लेबाजी के दौरान गेंद बैट्समैन के हेलमेट पर लगकर स्‍टंप में गिर जाती है, या फील्‍डर के हाथ में चली जाती है तो उसे आउट करार दे दिया जाएगा।
पहले भी बदले जा चुके हैं नियम :

60 ओवर से 50 ओवर का मैच :
साल 1971 में जब पहला वनडे मैच खेला गया तब यह 60 ओवर का खेला जाता था। बाद में 1977 में इसे 50 ओवर का किया गया। पहला 50 ओवर (6 गेंद प्रति ओवर) का मैच पाकिस्‍तान और वेस्‍टइंडीज के बीच खेला गया था।

पॉवरप्‍ले का नियम :
एकदिवसीय मैचों में तीन पॉवरप्‍ले होते हैं। पहला पॉवरप्‍ले 1-10 ओवर तक होता है जिसमें सिर्फ दो खिलाड़ी ही 30 यार्ड सर्किल से बाहर होते हैं। दूसरा पॉवरप्‍ले 11-40 ओवर तक, इसमें 4 खिलाड़ी 30 यार्ड सर्किल से बाहर होते हैं। तीसरा पॉवरप्‍ले 41-50 ओवर का होता है। इसमें 30 यार्ड सर्किल के बाहर 5 फील्‍डर रख सकते हैं।एक पारी में दो गेंद :
वनडे मैचों में अब दोनों साइड से अलग-अलग गेंदों से मैच खेला जाता है। पहले 30 ओवर तक तो दो गेंदों का इस्‍तेमाल किया जाता है। आखिर के 20 ओवरों में किसी एक गेंद से मैच खेलना होता है।

एक ओवर में दो बाउंसर :
शुरुआत में एक ओवर में सिर्फ एक बाउंसर का नियम था। आईसीसी ने हाल ही में इसे बदलते हुए बाउंसर की संख्‍या बढ़ा दी है। यानी कि अब कोई भी गेंदबाज एक ओवर में दो बाउंसर फेंक सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here