यशवंत सिन्हा का जेटली पर हमला : आर्थिक मोर्चे पर कितनी मुश्किलों में घिर गयी है मोदी सरकार?

0
144

अपने कार्य प्रदर्शन को लेकर अबतक सवालों से बेपरवाह नरेंद्र मोदी सरकार को लगभग साढ़े तीन साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद सबसे कठिन चुनौतियों और सवालों से जूझना पड़ रहा है. यह सवाल घरेलू व बाहरी दोनों मोर्चों पर ताबड़तोड़ किये जा रहे हैं. और, नोटबंदी पर संसद में चर्चा के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री व देश में उदारवाद के जनक डाॅ मनमोहन सिंह का वह बयान हर कोई याद कर रहा है, जिसमें उन्होंने अपना अनुमान पेश करते हुए कहा था कि जीडीपी में दो प्रतिशत तक कमी आने की आशंका है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी जहां प्रधानमंत्री मोदी के गृहप्रदेश गुजरात में ही यह सवाल उठा रहे हैं कि उन्होंने नोटबंदी और जीएसटी के जरिये अर्थव्यवस्था की रफ्तार थाम दी और बेरोजगारी की समस्या बढ़ गयी, वहीं भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने इंडियन एक्सप्रेस में लेख लिख कहा है कि अरुण जेटली ने अर्थव्यवस्था का कबाड़ा कर दिया है और उन्हें हारने के बाद भी वित्तमंत्री बनाया गया. ऐसा पहली बार नहीं है, जब सिन्हा ने मोदी सरकार पर सवाल उठाया है. छह बार देश का बजट पेश कर चुके अनुभवी सिन्हा पूर्व में भी समय-समय पर अपनी ही पार्टी की सरकार पर सवाल उठाते रहे हैं. पिछले महीने गवर्नेंस नाउ को दिये एक इंटरव्यू में भी उन्होंने अर्थव्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा था कि रिफॉर्म प्रोसेस बहुत धीमी है.यशवंत सिन्हा ने इंडियन एक्सप्रेस में लिखे अपने आलेख का शीर्षक भी बड़ा दिलचस्प दिया है : आइ नीड टू स्पीक अप नाउयानी मुझे अब बोलना ही होगा. सिन्हा ने लिखा है कि अगर वे नहीं बोलेंगे तो वे अपने राष्ट्रीय कर्तव्य को नहीं निभा रहे होंगे. उन्होंने लिखा है कि वे जो बोलने जा रहे हैं वह बड़ी संख्या में भाजपा के लोगों की भावनाएं हैं, लेकिन वे डर से नहीं बोल पा रहे हैं. यशवंत सिन्हा ने लिखा है कि सरकार के आंकड़े जीडीपी की मौजूदा वृद्धि दर 5.7 प्रतिशत बता रहे हैं, लेकिन वास्तव में वह 3.7 प्रतिशत है. सिन्हा ने इसके पीछे तर्क दिया है कि सरकार ने 2015 में जीडीपी तय करने के तरीके बदल दिये, उससे यह नंबर अभी 5.7 प्रतिशत दिख रही है.

सिन्हा ने लिखा है कि आज निजी निवेश कम हो गया है. खेती संकट में है, विनिर्माण उद्योग में सुस्ती है और औद्योगिक उत्पादन ध्वस्त हो गया है. सर्विस सेक्टर की रफ्तार धीमी है व निर्यात घट गया है. हर क्षेत्र में इकोनॉमी संकट में है. पूर्व वित्तमंत्री ने मनमोहन सिंह के सुर में सुर मिलाते हुए कहा है कि नोटबंदी आर्थिक आपदा साबित हुई है. सिन्हा ने लिखा है कि ठीक ढंग से जीएसटी लागू नहीं करने से कारोबारी जगत में उथल-पुथल मच गयी है. नौकरियां गयी हैं और नौकरियों के नये मौके नहीं बन रहे हैं.

दरअसल, नोटबंदी और उसके बाद जीएसटी के कारण हाल में आये जीडीपी के आंकड़े के अनुसार इसकी वृद्धि दर 5.7 प्रतिशत है और यह चीन से कम है. इसके साथ ही सबसे तेज बढ़ती अर्थव्यवस्था का भारत का तमगा चीन के हाथों छिन गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here