गांधी जयंती पर बोले पीएम मोदी- हजार गांधी, एक लाख नरेंद्र मोदी, सारी सरकारें भी नहीं साफ कर सकतीं भारत

0
44

प्रधानमंत्री मोदी ने उदाहरण दिया कि एक गांव में शौचालय बनवाया गया। बाद में वहां जाकर देखा तो लोगों ने उनमें बकरियां बांध रखी थी, लेकिन इसके बावजूद हमें काम करना है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कहा कि ऐसे लोग स्वच्छता अभियान का मजाक उड़ा रहे हैं जिन्होंने कभी इसमें हिस्सा नहीं लिया और उन्हें समझना चाहिए कि देश जब किसी बात को स्वीकार कर लेता है, तब चाहे..अनचाहे आपको उसे स्वीकार करना ही होता है। स्वच्छ भारत अभियान के तीन साल पूरा होने पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि स्वच्छता अभियान भारत सरकार का नहीं, देश के सामान्य आदमी का सपना बन चुका है। अब तक जो सफलता मिली है वह देशवासियों की है, सरकार की नहीं। समाज की भागीदारी के बिना स्वच्छता मिशन पूरा नहीं हो सकता। दुर्भाग्य से हमने बहुत सारी चीजें सरकारी बना दीं। हमें समझना होगा कि जब तक जनभागीदारी होती है तब तक कोई समस्या नहीं आती है और इसका उदाहरण गंगा तट पर आयोजित होने वाला कुंभ महोत्सव है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “1,000 महात्मा गांधी, एक लाख नरेंद्र मोदी, सभी मुख्यमंत्री एवं सरकारें साथ मिलकर आ जाएं तो भी स्वच्छ भारत नहीं हो सकता, बल्कि 125 करोड़ भारतीय मिलकर ही इसे पूरा कर सकते हैं।” स्वच्छता अभियान पर तंज कसने वालों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आज कुछ लोग ऐसे हैं जो अभी भी इसका ‘स्वच्छता अभियान’ का मजाक उड़ाते हैं, आलोचना करते हैं। वे कभी स्वच्छ अभियान में गए ही नहीं। आलोचना करते हैं, तो उनकी मर्जी, उनकी कुछ मुश्किलें होंगी। लेकिन पांच साल पूरा होने पर मीडिया में यह खबर नहीं आएगी कि स्वच्छता अभियान में किसने हिस्सा लिया, कौन काम कर रहा है… खबर यह आएगी कि कौन लोग इससे दूर भाग रहे हैं और कौन लोग इसके खिलाफ थे। क्योंकि जब देश किसी बात को स्वीकार कर लेता है, तब चाहे..अनचाहे आपको स्वीकार करना ही होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here