गिरती अर्थव्यवस्था पर प्रधानमंत्री मोदी का बयान, मैं अपने वर्तमान की चिंता में देश के भविष्य को दांव पर नहीं लगा सकता

0
222

नरेंद्र मोदी ने कल कंपनी सेक्रेटरी इंस्टिट्यूट में भारत की अर्थव्यवस्था की वर्तमान स्थिति पर सफाई दी। मोदी ने कहा कि देश में कई बार जीडीपी विकास दर पांच प्रतिशत से नीची गिरी है।

मोदी ने कहा कि मनमोहन सिंह की सरकार के दौरान अर्थव्यवस्था के ज्ञानी होने के बावजुद कई बार विकास दर पांच प्रतिशत से नीची रही है। उन्होंने बताया कि पिछली सरकारों के दौरान कई बार रूपए का मूल्य नीचे गिरा था। वर्तमान सरकार के बारेमें उन्होंने कहा कि पिछले तीन सालों के दौरान रूपए की कीमत बढ़ी ही है।

मोदी ने इस दौरान महाभारत के योद्धा शल्य का भी जिक्र किया। मोदी ने कहा कि महाभारत युद्ध के दौरान शल्य की प्रवर्ति यह थी कि वह सभी लोगों की नींदा करते थे। इसपर उन्होंने आगे कहा कि आज भी कई लोगों की यही प्रवर्ति बनी हुई है। इसके जरिये उन्होंने यशवंत सिन्हा जैसे लोगों पर निशाना साधा।

इसके बाद मोदी ने विपक्षी नेताओं को अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर कहा कि जब उनकी सरकार के दौरान ऐसा होता था, तो वे कहते थे कि यह प्रक्रिया उन्हें समझ ही नहीं आती है। और आज जब स्थिति उनके अनुकूल है और उन्हें बोलने का मौका मिल गया है, तो सभी इस विषय में विद्वान बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

मोदी ने इसके बाद कहा कि उनकी सरकार की चारों ओर आलोचना हो रही है। लेकिन उन्होंने कहा कि वे देश के भविष्य के बारे में सोच रहे हैं और वर्तमान आलोचनायों के बारे में नहीं। उन्होंने कहा, ‘मैं जानता हूं कि रेवड़ी बांटने के बजाय लोगों और देश को सशक्त करने के काम में कई बार मुझे आलोचना का भी सामना करना पड़ेगा, लेकिन मैं अपने वर्तमान की चिंता में देश के भविष्य को दांव पर नहीं लगा सकता हूं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here